यूपी : कांवड़ियों की भीड़ के कारण 2 जिलों के स्कूल बंद

लखीमपुर खीरी (यूपी) । उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य के दो जिलों में श्रावण के महीने में प्रत्येक सोमवार को कक्षा 1 से 8 तक के सभी सरकारी और निजी स्कूलों को बंद करने का निर्देश दिया है। 18 जुलाई से प्रभावी यह आदेश बेसिक शिक्षा अधिकारी लखीमपुर खीरी द्वारा पारित किया गया था।

सब-डिविजनल मजिस्ट्रेट का हवाला देते हुए, बीएसए लक्ष्मीकांत पांडेय के आदेश में कहा गया है कि, श्रावण के प्रत्येक सोमवार को गोला गोकर्णनाथ की तीर्थ यात्रा पर भक्तों/कांवड़ियों की भारी भीड़ को देखते हुए बंद किया गया था। भीड़भाड़ से यातायात की समस्या भी होगी और आने-जाने में भी परेशानी होगी।

आदेश में कहा गया है कि सभी चार सोमवारों को बंद रहने वाले सरकारी प्राथमिक स्कूलों के 82 शिक्षकों को सुबह 7 बजे से दोपहर 1 बजे तक गोला गोकर्णनाथ के प्रसिद्ध शिव मंदिर में मौजूद कांवड़ियों के रूप में सेवा करने और सहायता करने के लिए कहा गया है। बीएसए लक्ष्मीकांत पांडेय ने कहा है, “भक्तों की अधिक भीड़ के कारण मंदिर से 3 किलोमीटर के आसपास के स्कूल बंद हैं। किसी भी दुर्घटना से बचने के लिए स्थानीय प्रशासन द्वारा निर्णय लिया जाता है। भारी भीड़ को प्रबंधित करने के लिए बैरिकेडिंग की जाती है। गोला क्षेत्र में इंटर कॉलेज भी बंद हैं।”

एक अन्य आदेश में कांवड़ियों की भारी भीड़ को देखते हुए मेरठ जिले के सभी स्कूलों को बंद कर दिया गया है। बीएसए मेरठ योगेंद्र कुमार ने बताया कि, जिलाधिकारी के निर्देश के आधार पर कक्षा 1 से 8 तक के सभी स्कूल 19 से 25 जुलाई तक बंद रहेंगे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper