यूपी का एक ऐसा जिला जहां लॉकडाउन में घर-घर बांटे जा रहे कंडोम

बलिया: देशभर में तेजी से फैल रहे कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए लॉकडाउन लगाया गया है। लोग घरों में है, किसी को भी बाहर निकलन की अनुमति नहीं है। ग्रामीण क्षेत्रों में लॉकडाउन का कड़ाई से पालन किया जा रहा है। इसी बीच यूपी के बलिया जिले में स्थानीय प्रशासन ने लॉकडाउन के बाद जनसंख्या नियंत्रण को ध्यान में रखते हुए गांव-गांव में कंडोम के साथ माला-डी व परिवार नियोजन के अन्य किट बांटने के निर्देश दिए हैं। लॉकडाउन में अब तक लगभग 30 हजार कंडोम बांटे जा चुके हैं।

बलिया के एसीएमओ डॉक्टर वीरेंद्र प्रसाद का कहना है कि परिवार नियोजन किट बांटने का यह अभियान नया नहीं है। पहले से ही चल रहा है। लॉकडाउन में भी इसे जारी रखा गया है। डॉक्टर वीरेंद्र प्रसाद का कहना है कि ग्रामीण इलाकों में लॉकडाउन में मनोरंजन का साधन कम होते हैं, ऐसे में जनसंख्या न बढ़े इसे ध्यान में रखते हुए कंडोम बांटने वाले अभियान को जारी रखा गया है।

सोशल डिस्टेंसिंग का रखा जाता है ध्यान :

स्वास्थ्यकर्मी जब भी लोगों के बीच जा रहे हैं तो सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ध्यान रखते हैं। आशा कार्यकर्ता तथा एएनएम घर-घर जाकर लोगों को कोरोना वायरस से लड़ने के साथ परिवार नियोजन के फायदे बता रही हैं। आशाएं जहां बच्चों में अंतर रखने और अनचाहे गर्भ से बचने के लिए महिलाओं को छाया टेबलेट दे रही हैं, वहीं पुरुषों को कंडोम वितरित किए जा रहे हैं। एक स्वास्थ्यकर्मी ने बताया कि लाॅकडाउन की वजह से दूसरे प्रदेशों में काम करने वाले मजदूर घर वापस आ गए हैं। परिवार नियोजन के लिहाज से यह समय अत्यधिक जरूरी है। इसलिए हम लोग परिवार नियोजन के फायदे बता रहे हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper