यूपी के उद्यमियों को 1006 करोड़ का लोन बांटेंगे राष्ट्रपति

लखनऊ। राजधानी के इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में आयोजित दो दिवसीय एक जिला एक उत्पाद समिट का शुभारम्भ राष्ट्रपति रामनाथ कोविद शुक्रवार को करेंगे। इस मौके पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविद, राज्यपाल राम नाईक व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उद्यमियों को एक हजार 06 करोड़ 94 लाख का लोन बांटेंगे। इससे सूबे के चार हजार 85 उद्योग कर्मी लाभान्वित होंगे। यह जानकारी अति सूक्ष्म एवं लघु उद्योग मंत्री सुरेश पचौरी ने दी।

मंत्री ने गुरूवार को प्रेसवार्ता में कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की प्रेरणा से एक जिला एक उत्पाद योजना शुरू की गयी है। प्रदेश के जिस जिले की पहचान जिस उत्पाद के कारण है उसको प्रोत्साहित किया जायेगा। इसके लिए उद्योगकर्मियों को सरकार प्रशिक्षण भी देगी। सरकार का प्रयास है कि जो छोटे उद्योग कर्मी हैं वह बड़े बनें और जो बड़े उद्योगकर्मी हैं वह और बड़े बनें। प्रदेश के 75 जिलों का विकास समान रूप से होगा। इससे पलायन रूकेगा। बेरोजगारी की समस्या का भी निदान होगा।

समिट के माध्यम से जो परम्परागत उद्यमी हैं, उनको सरकार रोजगार देने जा रही है। मंत्री ने बताया कि अपने परम्परागत उद्योग में 06 लाख लोग लगे हैं। प्रतिवर्ष 01 लाख लोग इस योजना से जुड़ेंगे। अगले पांच सालों में पांच लाख नये लोगों को इस योजना के माध्यम से तैयार किया जायेगा। पचौरी ने कहा कि हमारी सरकार का मानना है कि जब उद्योग सक्षम होंगे तभी उत्तर प्रदेश सक्षम होगा। इसको लेकर उत्तर प्रदेश के हर जिले से एक उद्योग को चयनित करके उस पर कार्य किया जा रहा है।

उससे जुड़े उद्यमियों की समस्याओं को भी दूर किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इस समिट में आने वाले उद्यमियों के लिए तोहफे के रूप में एक दिन में एक हजार 06 करोड़ 94 लाख का लोन प्रदान किया जायेगा। जिससे छोटे उद्योगों को लगाने वाले उद्यमियों को विकास कार्य करने में आसानी मिले। समिट के नाम में नई उड़ान-नई पहचान जोड़ा गया है, जो उद्यमियों को अपनी ओर आकर्षित करेगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper