यूपी के ऑफिसर अब दूसरे राज्यों में रखेंगे प्रवासी मजदूरों का ख्याल

लखनऊ। जो लोग यूपी से दूसरे राज्यों में काम-धंधे की तलाश में जाते है और काम करते है और ऐसे प्रवासी मजदूरों के लिए यूपी सरकार भी तैयार है ताकि घर से परिवार छोड़ कर हजारों किलोमीटर दूर रह रहे यूपी के लोगों की सुरक्षा व सम्‍मान बना रहे. इस दिशा में अहम् कदम उठाते हुए योगी सरकार अब दिल्‍ली, मुंबई और कोलकाता जैसे शहरों में अपने अफसर तैनाती करेगी जो ये तय करेंगे कि प्रवासी मजदूरोंके हित सुरक्षित रहे. ये तैनाती ऐसे शहरों में होगी जहां प्रवासी मजदूर ज्यादा संख्‍या में होंगे और ऐसा कदम उठाने वाला उत्‍तर प्रदेश देश का पहला राज्‍य बनेगा.

इसमें सबसे पहले मुंबई में अफसर की तैनाती होंगी और इसमें मुंबई में दो अफसर तैनात होंगे. जानकारी के अनुसार इसके लिए मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने निर्देश दिए हैं. मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने दूसरे प्रदेश में रहने वाले मजदूरों की सुरक्षा,सुविधा और सम्‍मान की रक्षा के निर्देश दिए हैं . इनकी तैनाती दिल्‍ली,महाराष्‍ट्र,पश्चिम बंगाल, गुजरात और आंध्र प्रदेश सहित कई राज्‍यों में करने की योजना है.

मुंबई में रह रह कर ये अफसर प्रवासी मजदूरों के संग कुछ गलत होने पर स्‍थानीय प्रशासन के सहयोग से समस्‍या के समाधान के बाद अपनी रिपोर्ट राज्‍य सरकार को भेजेंगे. ये अफसर यूपी सरकार की योजनाओं की जानकारी भी प्रवासी मजदूरों तक देंगे ताकि वापसी करने के इच्छुक मजदूर इसका लाभ उठा सके और इस कदम से 30 लाख से ज्‍यादा प्रवासी मजदूरों का फायदा होगा.

बताते चले कि ये फैसला इसलिए लिए गया कि कोरोना काल में दिल्‍ली और मुंबई के लाखों मजदूर जबरन बाहर किये गए थे और कोलकाता और मुंबई में प्रवासी मजदूरों से बुरे सलूक की भी रिपोर्ट मिली हैं. इस बारे में मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने उत्‍तर प्रदेश वित्‍त निगम को भी निर्देश दिए हैं. इस कदम की सराहना करते हुए उत्‍तर भारतीय मोर्चा मुंबई के अध्‍यक्ष जेपी सिंह ने कहा कि ये काम करने वाली यूपी सरकार किसी राज्य की पहली सरकार होगी.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper