यूपी के प्रवासी मजदूरों की सुरक्षा सुनिश्चित करेगी योगी सरकार

लखनऊ: अपना घर परिवार छोड़ कर हजारों किलोमीटर दूर परदेस में काम करने गए यूपी के प्रवासी मजदूरों की सुरक्षा और सम्मान पर अब आंच नहीं आएगी। योगी सरकार अपने प्रवासी मजदूरों की सुरक्षा और सम्मान परदेश में भी सुनिश्चित करने जा रही है। प्रवासी मजदूरों की सुरक्षा के लिए योगी सरकार दिल्ली, मुंबई और कोलकाता जैसे शहरों में अफसरों की तैनाती करेगी।

योगी सरकार प्रवासी मजदूरों की अधिसंख्या वाले शहरों में अफसरों की तैनाती कर प्रवासी मजदूरों की सुरक्षा और सम्मान की निगरानी रखेगी। ऐसा करने वाला उत्तर प्रदेश देश का पहला राज्य होगा। दरअसल, दिल्ली, महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल, गुजरात और आंध्र प्रदेश समेत तमाम राज्यों के आर्थिक विकास और उद्योगों की रीढ़ यूपी के लाखों प्रवासी मजदूर हैं। सरकार का कहना है कि उनकी सुरक्षा व सम्मान जरूरी है। इस संबंध में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अफसरों को निर्देश जारी कर दिए हैं।

इसके लिए सरकार दिल्ली, मुंबई और कोलकाता जैसे शहरों में अपने अफसर तैनात करेगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इसके निर्देश दे दिए हैं। योजना की शुरुआत मुंबई में अफसरों की तैनाती से होने जा रही है। तय योजना के मुताबिक मुंबई में उत्तर प्रदेश सरकार के दो अफसरों की तैनाती की जाएगी। मुंबई में मौजूद रह कर ये अफसर यूपी के मजदूरों को मिल रही सुविधा, सुरक्षा और सम्मान पर नजर रखेंगे।

प्रवासी मजदूरों के साथ कुछ भी गलत होने पर यूपी के अफसर स्थानीय प्रशासन से बात कर समस्या का समाधान करायेंगे और इसकी रिपोर्ट राज्य सरकार को भेजेंगे । मुंबई में मौजूदगी के दौरान अफसर उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा शुरू की जा रही योजनाओं की जानकारी भी प्रवासी मजदूरों तक पहुंचाएंगे। ताकि जो मजदूर नई योजनाओं में शामिल हो कर प्रदेश में वापस आना चाहें उन्हें सुविधा मिल सके। मजदूरों की सुरक्षा और सम्मान को लेकर योगी सरकार का यह फैसला हजारों किलोमीटर दूर रह रहे यूपी के करीब 30 लाख से ज्यादा प्रवासी मजदूरों और उनके परिवार के लिए बड़ा सहारा साबित होने जा रहा है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper