यूपी के मुख्य सचिव और डीजीपी चीफ जस्टिस से मिलने सुप्रीम कोर्ट पहुंचे, CJI को देंगे सुरक्षा की जानकारी

नई दिल्ली। अयोध्या फैसले से पहले शुक्रवार को उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव आरके तिवारी और पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह चीफ जस्टिस रंजन गोगोई से मिलने के लिए सुप्रीम कोर्ट पहुँच गए हैं। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई के साथ उनके चैंबर में मीटिंग होगी। जिसमें दोनों ही प्रमुख अधिकारी उत्तर प्रदेश के सुरक्षा इंतजाम की जानकारी चीफ जस्टिस को देंगे।

मुख्य सचिव और डीजीपी दोनो की एंट्री गेट नंबर ए से हुई है। सुप्रीम कोर्ट के गेट नंबर ए से केवल जजों की एंट्री होती है। इसके बावजूद दोनों को चीफ जस्टिस ने मीटिंग के लिए बुलाया है, इस लिए मुख्य सचिव और डीजीपी दोनों की एंट्री नंबर गेट ए से हुई। दअरसल सुप्रीम कोर्ट में नियम के मुताबिक अगर कोई कोर्ट में आता है तो उसको पास बनवाना होता है लेकिन डीजीपी और मुख्य सचिव को सीधे सुप्रीम कोर्ट के अंदर ले जाया गया।

92 का हुए लाल कृष्ण आडवाणी, पीएम मोदी, अमित शाह और जेपी नड्डा ने घर पहुंच कर दी जन्मदिन की बधाई

अयोध्या मामले में फैसला किसी भी समय सुनाया जा सकता है। इसके पहले नई दिल्ली में सुप्रीम कोर्ट के बैठक कक्ष में सीजेआई रंजन गोगोई ने उत्तर प्रदेश के हालात की जानकारी की है। सीजेआई एक बैठक करते हुए सीएस आरके तिवारी एवं डीजीपी ओपी सिंह को शामिल किया है। इस बैठक में और भी प्रमुख लोग शामिल हैं। अयोध्या मामले पर 13 से 15 नवम्बर के बीच कभी भी फैसला आ सकता है।

इससे एक दिन पहले उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के समस्त जिलाधिकारियों एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, पुलिस अधीक्षक से वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिये बैठक की थी। जिसमें मुख्यमंत्री ने ऐहतियातन अपने जिलों में सावधानी रखने के निर्देश दिये थे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper