यूपी चुनाव से ठीक पहले इस सर्वे ने बढ़ाई अखिलेश की टेंशन, BJP को मिल सकती हैं इतनी सीटें

लखनऊ: यूपी विधानसभा चुनाव में अब महज दो से तीन महीने का ही वक्त बचा है और प्रदेश के सभी सियासी दलों के बीच खींचतान तेज हो गई है। भारतीय जनता पार्टी के दिग्गज नेता खुले तौर पर कह रहे हैं कि इस बार उनकी पार्टी 300 से ज्यादा सीटें हासिल करेगी और योगी आदित्यनाथ एक बार फिर से प्रदेश के मुख्यमंत्री बनेंगे। वहीं, विपक्षी दल भाजपा के इस दावे को खोखला बताते हुए अपनी-अपनी जीत के दावे कर रहे हैं। इस बीच यूपी विधानसभा चुनाव को लेकर एक और ओपिनियन पोल सामने आया है, जिसमें भाजपा के लिए बड़ी खबर है।

उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर ‘जन की बात’ ने अपने ओपिनियन पोल के आंकड़े शुक्रवार को जारी किए, जिनमें भारतीय जनता पार्टी को एक बार फिर से बहुमत मिलता हुआ दिखाया गया है। इसके अलावा पोल में सीएम के तौर पर भी मौजूदा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पहली पसंद बनकर उभरे हैं। इस ओपिनियल पोल के लिए यूपी के 75 जिलों में से 20 हजार लोगों से उनकी राय ली गई।

ओपिनियन पोल के नतीजों के मुताबिक, यूपी चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को विधानसभा की 233 से 252 के बीच सीटें मिलती हुई नजर आ रही हैं। वहीं, इस सर्वे के नतीजे सपा प्रमुख अखिलेश यादव की चिंता बढ़ाने वाले हैं, जिनके खाते में केवल 135 से 149 सीटें ही जाती हुई दिख रही हैं। इनके अलावा यूपी चुनाव में इस बार भी कांग्रेस कोई करिश्मा करती हुई नजर नहीं आ रही और पार्टी को महज 3 से 6 सीटें मिल सकती हैं। मायावती की बहुजन समाज पार्टी 11 से 12 सीटें हासिल कर पिछले चुनाव के आंकड़े से भी नीचे नजर आ रही है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper