यूपी पर दाग नहीं लगा पाएंगे कोविड में मेडिकल उपकरण घोटाला करने वाली दिल्‍ली सरकार के झूठे नेता – सिद्धार्थनाथ

लखनऊ। कोविड के मुश्किल वक्‍त में मेडिकल उपकरण खरीद घोटाला करने वाले दिल्‍ली सरकार के नेता यूपी पर दाग नहीं लगा पाएंगे। दिल्‍ली को पानी के लिए तरसाने वाली केजरीवाल सरकार के नेताओं को अपने गिरेबान में झांकना चाहिए। यह बातें शुक्रवार को योगी सरकार के प्रवक्‍ता और कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कही।

उन्होंने शुक्रवार को जारी एक बयान में कहा कि यूपी से तुलना करने वाले आप के नेताओं को अपनी सरकार में चार साल में महज 378 नौकरियों का आंकड़ा सामने रखना चाहिए । दिल्‍ली सरकार के आंकड़ों के मुताबिक केजरीवाल सरकार ने फरवरी 2015 से अप्रैल 2019 तक महज 378 नौकरियां दी हैं जबकि योगी सरकार ने साढ़े चार साल में साढ़े 4 लाख युवाओं को नौकरियां दी ।

कैबिनेट मंत्री ने कहा कि आम आदमी पार्टी के नेता अपने झूठ के बोझ तले दब गए हैं। यूपी के 6 जिलों से भी कम आबादी वाले दिल्‍ली को संभालने में नाकाम आम आदमी पार्टी अपनी खामियां छिपाने के लिए झूठी बयानबाजी कर यूपी के लोगों को ठगने की कोशिश कर रही है। संजय सिंह शायद भूल रहे हैं, कि उत्‍तर प्रदेश देश और दुनिया को नेतृत्‍व देने वाली मिट्टी है। यहां आपकी दाल नहीं गलने वाली।

उन्‍होंने कहा कि अपने ही बनाए झूठ के दलदल में आप के नेता इस कदर फंस गए हैं कि समझ नहीं पा रहे हैं कि क्‍या बोलना है और क्‍या नहीं। आप के सांसद जिस कंपनी को ब्‍लैक लिस्‍टेड बता कर यूपी पर लांछन लगाने का प्रयास करते हैं उसी कंपनी के साथ दिल्‍ली जल बोर्ड में काम करता है।

सिद्धार्थ नाथ सिंह ने पूछा कि रश्मि मेटालिक्‍स कंपनी पर झूठे आरोपों के मामले में संजय सिंह कोर्ट में कब हाजिर होंगे।झूठे आरोप लगा रहे आप के सांसद कोर्ट से भाग रहे हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper