यूपी में कोरोना का खौफ, अबतक 11 केस, 22 मार्च तक सभी स्कूल-कॉलेज बंद

उत्तर प्रदेश में कोरोनावायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए सरकार ने सभी स्कूल-कॉलेज 22 मार्च तक बंद रखने का निर्णय लिया है। मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस की पढ़ाई भी नहीं होगी। जिन विद्यालयों में परीक्षाएं शुरू हो चुकी हैं, वे जारी रहेंगी। सीएम योगी ने कहा-यूपी में अब तक कुल 11 पॉजिटव केस पाए गए हैं। जिनमें 10 का उपचार दिल्ली में व एक का केजीएमयू लखनऊ में उपचार चल रहा है। इनमें आगरा के सात, गाजियाबाद के दो और नोएडा व लखनऊ में एक-एक केस हैं। यह बीमारी पैनिक न हो, इसके लिए एपेडमिक एक्ट के तहत कुछ पॉवर डेलीगेट किए हैं।लेकिन महामारी घोषित नहीं किया गया है।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा- कोरोनावायरस को लेकर एक माह पहले यूपी में अलर्ट जारी किया गया था। आवश्यक सतर्कता के लिए एडवाइजरी जारी हो चुकी थी। 4100 चिकित्सकों को ट्रेनिंग दी गई है। हर जिले में आइसोलेशन वार्ड बने हैं। जिले स्तर पर 820 बेड आरिक्षित हैं। 24 सरकारी व निजी मेडिकल कॉलेज में 448 बेड आइसोलेशन वार्ड के रूप में रिजर्व हैं। बीआरडी मेडिकल कॉलेज गोरखपुर में इस वायरस के पहचान की सुविधाएं हैं। बीएचयू, अलीगढ़, लखनऊ के केजीएमयू व पीजीआई में जांच की सुविधा को पहुंचाने का प्रयास कर रहे हैं। यूपी में पांच लैब बनाए जाएंगे। मेडिकल कॉलेजों में भी जांच, उपचार की कार्ययोजना तैयार हुई है। स्वास्थ्य विभाग के चिकित्सा शिक्षा, इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के सहयोग से इस वायरस के प्रभाव कम करने के लिए प्रयास जारी हैं।

सीएम ने कहा- यह एक संक्रामक बीमारी है। सतर्कता व सावधानी का इसमें महत्वपूर्ण रोल है। पंचायती व ग्राम्य विकास, माध्यमिक शिक्षा, उच्च शिक्षा व तकनीकी शिक्षा विभाग व्यापक जागरुकता फैलाएगा। हर पीएचसी, सीएचसी व जिला अस्पताल स्तर पर एक जागरूकता कार्यक्रम चलाया जा रहा है। एक मार्च से संचारी रोग अभियान चल रहा है। मीडिया के सभी माध्यमों के माध्यम से इस रोग के प्रति बचाव की जानकारी दी जा रही है। मेडिकल व पैरामेडिकल स्वास्थ्य कर्मियों को ट्रेनिंग अभियान चलाया जाएगा।

जरूरत पड़ने पर सरकार प्राइवेट अस्पतालों को भी अपने नियंत्रण में ले सकता है। स्वास्थ्य विभाग इसका नोटिफिकेशन निकालने जा रहा है। उन्होंने कहा- जिसे मास्क की आवश्यकता नहीं है। वे न लगाएं। मास्क वही लगाएं जो संक्रमित या संदिग्ध है। पर्याप्त मात्रा में मास्क, दस्ताने जिले स्तर पर उपलब्ध हैं। कहीं कोई कालाबाजारी न कर पाए, इसका ध्यान रखने का निर्देश दिया गया है। प्रदेश में पूरी स्थिति नियंत्रण में है। थर्मल एनाइलाइजर का प्रबंध नेपाल बार्डर पर किया गया है। राउंड द क्लॉक डॉक्टर आने जाने वालों पर नजर रख रही है। इस कार्रवाई को बराबर मॉनिटर किया जा रहा है। एनसीआर व उसके आसपास भी विशेष सतर्कता बरतने की हिदायत दी गई है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper