यूपी में मंत्रिमंडल का विस्तार जल्द

लखनऊ: योगी सरकार का मंत्रिमंडल विस्तार अगले हफ्ते होने के आसार हैं। राष्ट्रपति के यूपी दौरा पूरा हो जाने के बाद किसी भी दिन नए मंत्रियों को शपथ दिलाई जा सकती है। भाजपा नेतृत्व मंत्रिमंडल में शामिल होने वालों के नामों पर जल्द ही अंतिम निर्णय लेगा। इसके साथ ही विधान परिषद में मनोनयन के लिए चार नामों पर भी मुहर लग जाएगी। कैबिनेट विस्तार की संभावित तिथि एक या दो सितंबर मानी जा रही है। जिन नेताओं को मंत्रिमंडल में शामिल किया जा सकता है उनमें कांग्रेस छोड़ भाजपा में आए जितिन प्रसाद को ब्राह्मण चेहरे के तौर पर लिया जा सकता है।

इसके अलावा पिछड़े वर्ग को साधने के लिए खासी अहमियत दी जाएगी। इसी रणनीति के तहत निषाद पार्टी के अध्यक्ष डा. संजय निषाद और अपना दल (सोनेलाल) के कार्यकारी अध्यक्ष आशीष पटेल का नाम तय माना जा रहा है। पहले चर्चा थी कि रक्षाबंधन के बाद योगी कैबिनेट का विस्तार होगा।

इस बीच पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह का निधन हो गया। इस वजह से मंत्रिमंडल विस्तार की अटकलों पर कुछ दिनों के लिए विराम लग गया था। विस्तार के माध्यम से भाजपा विधानसभा चुनाव 2022 के नजरिए से राज्य में जातीय व क्षेत्रीय संतुलन को साधेगी। नाराज वर्गों को खुश होने का मौका इस विस्तार के माध्यम से दिया जाएगा। कायस्थ समाज या पिछड़ी जाति से किसी एक नये चेहरे को मंत्री बनने का मौका दिया जा सकता है।

ये भी हो सकते हैं नये मंत्री
जाट बिरादरी की मंजु सीवास व सहेंद्र रमाला, गूर्जर जाति के सोमेंद्र गुर्जर को मौका मिलने की प्रबल संभावना है। इसके अलावा तेजपाल नागर का नाम भी आगे है। यह सभी पश्चिमी यूपी के हैं। पूर्वांचल से संगीता बलवंत बिंद, महेंद्र पाल सिंह सेंथवार भी मंत्री बनाए जा सकते हैं। आदिवासी समुदाय से संजय गोंड का नाम भी आगे है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper