यूपी में योगी सरकार ने मेरे खिलाफ देशद्रोह का केस दायर किया: संजय सिंह

नई दिल्ली: राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने शुक्रवार को सीएम योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश सरकार को उनके खिलाफ राजनीति से प्रेरित राजद्रोह का मामला दर्ज करने पर कड़ी नाराजगी जताई। उन्होंने कहा कि, “योगी सरकार द्वारा उनके खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा दर्ज करने की कार्रवाई का मुख्य कारण यह है कि वह यूपी में ब्राह्मणों और दलितों के खिलाफ हिंसा और अत्याचार पर लगातार आवाज उठा रहे हैं।

वहीं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी कह रहे हैं कि मैं देशद्रोही हूं। पिछले 3 महीने में लगभग 13 मुकदमे उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने मुझ पर लगाए हैं। 3 महीने में 13 मुकदमे उत्तर प्रदेश में आज तक किसी माफिया के खिलाफ नहीं हुए।” संजय सिंह ने कहा कि, “12 विभिन्न राजनीतिक दलों के 37 सांसद एकजुटता के साथ मेरे साथ हैं और उन्होंने माननीय राज्यसभा सभापति से इस मुद्दे के खिलाफ जांच कराने का आग्रह किया है। वहीं कांग्रेस, टीएमसी, सपा, शिवसेना, राजद, टीआरएस, टीडीपी, डीएमके, अकाली दल, एनसीपी और कई अन्य सांसदों ने उनका समर्थन किया है।”

उन्होंने कहा कि, “माननीय राज्यसभा के सभापति ने सदन को यह सुनिश्चित किया है कि इस मामले की जांच की जाएगी। वहीं 20 सितंबर को वह लखनऊ पुलिस के सामने पेश होंगे।”संजय सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि, “मैंने चिट्ठी लिखकर सभापति महोदय से इस पूरे प्रकरण की जांच करने की मांग की है और 12 अलग-अलग राजनीतिक दलों के सांसदों ने भी चिट्ठी लिखकर मेरा समर्थन किया है। मैंने सभापति महोदय से आग्रह किया है कि अगर मैं देशद्रोही हूं तो मेरे खिलाफ कार्रवाई की जाए और मुझे जेल में डाला जाए और यदि नहीं हूं तो इस प्रकार के झूठे केस मुझ पर लगाने वालों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए।”

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper