यूपी : योगी सरकार का एक और अच्छा कदम, जानिये क्या है

लखनऊ : योगी सरकार ने लॉकडाउन के दौरान अन्य प्रांतों में सेवारत मजदूरों व कर्मियों के वेतन व मजदूरी का नियोक्ता से भुगतान दिलाने के निर्देश दिए हैं। इसके लिए संबंधित राज्य के अधिकारियों से समन्वय करने को कहा गया है।

मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने लोक भवन स्थित अपने कार्यालय सभागार में लॉकडाउन के दौरान अन्य प्रांतों में फंसे लोगों की सहायता के लिए नामित नोडल अधिकारियों को वीडियो कॉन्फ्रेन्सिंग के माध्यम से ये निर्देश दिए। उन्होंने अधिकारियों को बताया कि केंद्र सरकार ने आपदा प्रबंधन अधिनियम के अंतर्गत सभी नियोक्ताओं को अपने संस्थान व दुकान आदि में कार्यरत कर्मियों व मजदूरों को उनकी मजदूरी का भुगतान बिना किसी कटौती के करने के निर्देश दिए हैं।

इनमें उद्योग, निजी कंपनी, कार्यालय, व्यावसायिक संस्थान, दुकान आदि आते हैं। इसी तरह अन्य प्रांतों में फंसे लोगों की खाने-पीने आदि की समस्याओं का संबंधित प्रदेश के अधिकारियों से संवाद कर समाधान कराया जाए ताकि लॉकडाउन खुलने की स्थिति में भगदड़ न हो।

जहां से लगातार शिकायतें आ रहीं हैं, वहां के मुख्य सचिव को शिकायतें उपलब्ध करा दी जाएं, ताकि शिकायतों पर प्रभावी कार्यवाही हो सके। अन्य राज्यों को यूपी में उनके प्रदेश के निवासियों की संख्या तथा उनके प्रदेश में यूपी के निवासियों की संख्या भी उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper