यूपी : 79 प्रतिशत लोग लाकडाउन के पक्ष में

लखनऊ : प्रदेश के 79 प्रतिशत लोगों का कहना है कि 14 अप्रैल के बाद भी लाकडाउन जारी रहना चाहिए। पब्लिक ऐप द्वारा किए गए पब्लिक की राय पोल में जनता का यह मत सामने आया है। पब्लिक ऐप भारत का सबसे बड़ा लोकेशन आधारित सोशल मीडिया ऐप है और यह सर्वेक्षण वैश्विक बाजार अनुसंधान फर्म आईपीएसओएस के सहयोग से किया गया है।

84 प्रतिशत से अधिक लोगों का यह भी कहना था कि ताली बजाने और दिये जलाने जैसी गतिविधियां प्रत्येक रविवार को की जानी चाहिए, उनका मानना है कि इससे देशवासियों को प्रेरणा मिलेगी और एकता बढ़ेगी। ऐसी खबरें हैं कि कई विशेषज्ञों व राज्य सरकारों के अधिकारियों ने प्रधानमंत्री से लाकडाउन जारी रखने का आग्रह किया है।

तत्पश्चात हुए इस पोल में उत्तर प्रदेश के 72000 से अधिक लोगों ने इसमें भाग लिया। लाकडाउन विस्तार के 58 प्रतिशत समर्थकों ने कहा कि इसे 30 अप्रैल तक बढ़ाया जाना चाहिए, 19.56 प्रतिशत लोग 15 मई तक और 22.23 प्रतिशत 30 मई तक बढ़ाए जाने के पक्ष में थे। लगभग 17 प्रतिशत लोगों की राय थी कि लाकडाउन को नहीं बढ़ाया जाना चाहिए और 4 प्रतिशत लोग ऐसे थे जिनकी कोई राय नहीं थी।

पब्लिक ऐप के इस पोल में 2 लाख से ज्यादा भारतीयों ने भाग लिया, भारत में इस ऐप के 2.50 करोड़ से अधिक प्रयोक्ता हैं। यह पोल बिहार, छत्तीसगढ़, दिल्ली, हरियाणा, झारखंड, मध्य प्रदेश, राजस्थान व उत्तर प्रदेश में किया गया। पोल के समग्र नतीजों के मुताबिक 81 प्रतिशत लोग इस मत के हैं कि 14 अप्रैल के बाद भी लाकडाउन जारी रहना चाहिए तथा 86 प्रतिशत लोगों का कहना था कि राष्ट्रीय एकता एवं प्रोत्साहन वृद्धि के लिए प्रत्येक रविवार को शहरों में कुछ गतिविधि होनी चाहिए। 56 प्रतिशत लोगों की राय है कि लाकडाउन को 30 अप्रैल तक बढ़ना चाहिए, 21 प्रतिशत लोग 15 मई और 23 प्रतिशत लोग 30 मई तक लाकडाउन को बढ़ाए जाने के हक में हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper