येदियुरप्पा ने चुनाव आयोग से की शिकायत

बेंगलुरु: बीजेपी नेता बीएस येदियुरप्पा ने कर्नाटक चुनाव में कथित गड़बड़ियों की आशंका को लेकर चुनाव आयोग को चिट्ठी लिखी है। येदियुरप्पा का आरोप है कि कर्नाटक के विजयपुरा स्थित एक गांव में वीवीपेट मशीनों के बॉक्स खुली जगह पर मिले थे। मुख्य चुनाव आयुक्त ओम प्रकाश रावत को लिखी चिट्ठी में येदियुरप्पा ने कहा कि आयोग को इस मामले में गंभीर कार्रवाई करनी चाहिए। उन्होंने लिखा, यह घटना चुनाव आयोग के उन दावों को झूठा साबित करती हैं, जिसमें कर्नाटक में निष्पक्ष चुनाव होने की बात कही गई थी।

उन्होंने कहा कि वोटिंग से पहले भी बीजेपी नेताओं और कार्यकर्ताओं ने संबंधित अधिकारियों को इसे लेकर शिकायत की थी। पूर्व मुख्यमंत्री ने यह आरोप भी लगाया कि बिदर और कलबुर्गी जिले के कई हिस्सों में पुलिस अधिकारियों ने प्रतिद्वंदी उम्मीदवारों द्वारा वोटरों को शराब और पैसे बांटने में मदद की। हालांकि, कर्नाटक राज्य के चुनाव अधिकारी संजीव कुमार ने कहा कि रविवार को मनागुली गांव में मिले वीवीपेट बॉक्स चुनाव आयोग के नहीं हैं। यहां मिले वीवीपेट बॉक्स में मशीन और पेपर नहीं थे। साथ ही इस पर यूनीक इलेक्ट्रॉनिक ट्रैकिंग नंबर भी नहीं था।

चुनाव आयोग उन लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करेगा, जो कन्फ्यूजन फैला रहे हैं। उन्होंने कहा, लावारिस वीवीपेट बॉक्स की खबर मिलते ही जिले के डिप्टी कमिश्नर और एसपी ने मौके का मुआयना किया। ये बॉक्स विजयपुरा जिले के नहीं हैं। इस जिले के लिए 2744 वीवीपेट इश्यू किए गए थे और ये सभी स्ट्रॉंग रूम में सुरक्षित रखे गए थे। मनागुली पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज करने के बाद मामले की जांच की जा रही है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper