ये गाँव सदियों से है भुतिया, यहाँ आने से डरते हैं लोग

भानगढ़: आपने भानगढ़ के बारे में तो जरुर सुना होगा। जी हां हम राजस्थान के उसी किले की बात कर रहे है जिसे ‘भूतो का भानगढ़‘ कहा जाता है। इस किले की कहानी काफी मशहुर है। लेकिन इस किले से मिलती-जुलती है एक और कहानी राजस्थान के एक गांव की है। इस गांव को भी भूतहा गांव (hunted village) माना जाता है। भानगढ़ की तरह यह गांव भी अचानक ही उजाड़ हो गया था, और तब से आज तक इस गांव में रहने की किसी की हिम्मत नही हुई। आज भी यह गांव एकदम सुनसान है। इसके पिछे जो कहानी कही जाती है, वह भी कम रोचक नही है। यह गांव राजस्थान में जैसलमेर से तकरीबन 17 किलोमीटर दूर स्थित है। इस गांव का नाम कुलधरा है।ये गाँव सदियों से है भुतिया, यहाँ आने से डरते हैं लोग

कहानियों के अनुसार कभी यह गांव मे पालिवाल बाह्मणो की आबादी से आबाद था। इस गांव (hunted village) के मंदिर के पुजारी की बेटी बहुत सुंदर थी। रियासत के दीवान सलीम सिंह की उस पर बुरी नजर पड़ गई। दीवान सलीम सिंह इस लड़की से जबरदस्ती शादी करना चाहता था। उसने गांव के लोगो को धमकी दी। और शादी करने के लिए कुछ दिन की मौहलत दी। गांव के सभी लोगो ने आपसी विचार विमर्श किया। गांव के लोग अपने स्वाभिमान और गांव की लडकी की इज्जत से समझोता करने के लिए तैयार नही हुए। इसलिए पूरे गांव ने रातोरात यह गांव खाली कर दिया। एक ही रात मे पूरा गांव सुना हो गया। कहानी के अनुसार गांव के जाते वक्त बाह्मणो ने यह श्राप दिया था कि इस गांव में अब कोई नही बस पाएंगा। बस तभी से यह गांव सुनसान है।

राजस्थान का यह भूतहा गांव (hunted village) राजस्थान ही नही बल्कि देश विदेश में भी मशहुर है। कहा जाता है कि इस गांव में अब अलौकिक शक्तिया रहती है। और यदि कोई गलती से इस गांव में आ भी जाता है तो उसे इस बात का अहसास जरुर हो जाता है कि यहां कोई रुहानी शक्ति है। इस गांव को लोग भूतहा गांव के नाम से जानते है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper