ये थी दुनिया की सबसे बड़ी जासूस, अपनी खूबसूरती के दम पर उगलवा लेती थी बड़े बड़े राज

आज के समय में जासूसी करना बहुत आसान काम हो गया है. मोबाइल से लेकर कंप्यूटर तक किसी भी चीज की जासूसी की जा सकती है लेकिन पुराने जमाने में जब ये सब नही हुआ करते थे तब जासूसी करना बेहद मुश्किल था इसके लिए बड़े बद्र राजा सुंदर लडकियों का सहारा लेती थी.

ये लडकियाँ जिसकी जासूसी करनी होती थी उससे दोस्ती कर लेती थीं तो अपने जाल में फंसाकर सच उगलवा लेती थीं तो आज हम आपको एक इसे ही जासूस क्र बारे में बताने जा रहे हैं जिपर करीब 50 हजार लोगो की मौत का इलाज्म लगा हुआ है. माता हारी को जेले के नाम से भी जाना जाता है। वो न केवल एक मशहूर जासूस थी बल्कि वो एक प्रख्यात डांसर भी थी

उनके ऊपर जर्मनी के लिए जासूसी करने का भी गंभीर आरोप था। कहा जाता है कि माता हारी के कई सारे प्रभावशाली व्यक्तियों से संबंध थे। उनका कार्यक्रम देखने कई देशों के लोग और सेना के बड़े अधिकारी पहुंचा करते थे।उनकी अदाओं के कायल बहुत लोग थे।

जेले की शादी नीदरलैंड की शाही सेना के एक अधिकारी से हुई थी,907 में माता हरी ने नीदरलैंड्स लौटने के बाद अपने पति को तलाक दे दिया था प्रथम विश्वयुद्ध के दौरान माता हरी को हथियार बना कर फ्रांस ने जर्मन मिलिट्री ऑफिसर्स की कई सारी महत्वपूर्ण जानकारियां हासिल की थी लालच में आकर उसने फ्रांस सरकार की भी जानकारी जर्मनी सरकार को देनी शुरू कर दी।

इस तरह वो डबल गेम खेल रही थी और दोनों से ही अपने काम के पैसे ले रही थी लेकिन सच ज्यादा दिन तक नहीं छुपता। 15 अक्टूबर,1917 को मार्गरेट गीर्तोईदा ज़ेले यानि कि ‘माता हारी’ को गोलियों से भूनकर मौत देने की सजा मिली इस भयंकर डबल गेम के चक्कर में मात्र 41 वर्ष की आयु में ही माता हारी को अपनी जिंदगी से हाथ धोना पड़ा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper