ये बच्ची बनती जा रही छिपकली, डॉक्टर्स हैरान और परिवार परेशान !

नई दिल्ली: वैसे तो आपको इस दुनिया में कई तरह की बिमारियां देखने-सुनने को मिलती होंगी लेकिन कुछ बिमारियां ऐसी भी सामने आती है जिसके बारे में कोई कल्‍पना भी नहीं कर सकता है। आज हम आपको ऐसी ही एक अजीबो-गरीब बिमारी से पीडि़त बच्‍ची के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे देखकर हर कोई हैरान है।

आज जो खबर सामने आई है वो कुछ ऐसी ही है। दरअसल एक बच्ची के घरवाले बेहद दुखी और परेशान हैं क्योंकि उनकी बेटी धीरे-धीरे छिपकली बनती जा रही है। जी हां यकीन नहीं हो रहा है न लेकिन ये बिल्‍कुल सच है। इस बच्‍ची की उम्र अभी महज 2 साल है और वो धीरे-धीरे छिपकली की तरह बनती जा रही है। इस बच्ची का नाम शमां है डॉक्टरों के अनुसार ये बेहद ही अजीबों गरीब बिमारी है जो कि 6 लाख लोगों में से एक में पाई जाती है।

आपको बता दें कि इस बीमारी की वजह से बच्‍ची अक्‍सर दर्द में भी रहती है और साथ ही उसके शरीर के कुछ हिस्‍सों में इंफेक्शन भी हो चुका है। इतना ही नहीं आपको हैरानी और ज्‍यादा होगी जब पता चलेगा कि उस बच्ची के भाई-बहन भी इसी अवस्था से गुजर रहे हैं। इस बिमारी की वजह से उनकी स्किन भी छिपकली की तरह ही दिखती है और साथ ही उसके शरीर पर से सारे बाल भी गायब हो रहे हैं। डॉक्टरो ने इस दुर्लभ बीमारी का नाम ‘लैमेलर इक्थियोसिस’ दिया।

डॉक्टरों का कहना है कि इस बिमारी में शरीर के अंदर खून का संचार उचित तरीके से नहीं हो पाता है और शरीर में खून की कमी भी हो जाती है। जिसकी वजह से त्वचा रूखी और बेजान हो जाती है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper