ये है दुनिया का सबसे छोटा देश, 33 लोगो की है आबादी,जानिए कुछ दिलचस्प बाते

दरअसल हमारे देश में ही नहीं बल्कि दुनिया के तमाम देशो में जो लोग बड़े पदों पर होते है जैसे:- देश के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, राज्यों के राज्यपाल और यहाँ तक की कई छोटे मोटे मंत्रियो की भी सुरक्षा के कड़े इंतजाम किये जाते है और इसके लिए लाखो करोड़ो रूपये सालाना खर्चा किये जाते है. लेकिन हम आपको बता दे की इस दुनिया में एक दश ऐसा भी है जहा के राष्ट्रपति के लिए भी इतने VIP सुरक्षा के इंतजाम नहीं किये जाते और तो और वो भी अकेले सड़को पर घूमते नजर आते है। लेकिन इस देश की सबसे हैरान कर देने वाली चीज है यहाँ की आबादी. जी हां. दरअसल इस देश की कुल आबादी 33 बताई गयी है. और इस देश का नाम है मोलोसिया.

बता दे की यह अनोखा देश अमेरिका के नेवादा में आता है. और इससे भी रोचक बात ये है कि यह देश स्वघोषित है. इस देश मोलोसिया के बारे में बताया जाता है की साल 1977 में यहां के रहने वाले केविन बॉघ नाम के व्यक्ति और उनके एक दोस्त के दिमाग में अमेरिका से अलग एक नया देश बनाने का विचार आया था. जिसके बाद बॉघ और उसके दोस्तों ने मिलकर मोलोसिया नामक इस देश की नींव रखी. और तब से लेकर अब तक केविन बॉघ इस देश के राष्ट्रपति हैं.

बता दे की उन्होंने अपने आप इस देश का तानाशाह भी घोषित कर रखा है. और वही इनकी बीवी भी देश की पहली महिला का दर्जा रखती है। दरअसल इस देश में रहने वाले ज्यादातर नागरिक कोई और नहीं बल्कि केविन के रिश्तेदार ही हैं, वैसे इस देश की मान्यता की बात करे तो इसे अभी तक दुनिया की किसी भी सरकार ने मान्यता नहीं दी है. इस देश में अन्य देशों की तरह स्टोर, लाइब्रेरी, श्मशान घाट के अलावा कई सुविधाएं भी उपलब्ध हैं. इसके अलावा मोलोसिया का अन्य देशों की तरह अपना कानून, ट्रेडिशन और करंसी भी है.

खबरों की माने तो, ये देश पर्यटन के लिहाज से भी काफी प्रचलित है. यहां बहुत से लोग इस देश के बारे में जानने और घूमने के लिए हर साल आते हैं. लेकिन हैरानी की बात ये है की यहां भी आने के लिए टूरिस्टों को अपने पासपोर्ट पर स्टैम्प लगवाना जरुरी है। वैसे कहा जाता है की केविन ने अपने जिस दोस्त के साथ इस देश की नीव रखी थी, उसने कुछ समय बाद इस आइडिया को त्याग भी दिया था, लेकिन केविन नही माने और उन्होंने अपने इस शौक को आगे जारी रखा.

दरअसल वो भी अपने इस देश विकास के लिए काम करते रहते हैं. बता दे की इस देश की नींव रखे 40 साल हो गए, लेकिन टूरिस्टों का आना अभी भी जारी है. इस देश में घूमने के लिए टूरिस्टों को केवल 2 घंटे का समय निकालना पड़ता है. इस ट्रिप में केविन खुद टूरिस्टों को देश की बिल्डिंग्स और सड़कों को दिखाते हैं ।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
--------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper