ये है दुनिया की सबसे लंबी नहर, जिसे पार करने में छूट जाते है अच्छे-अच्छे के पसीने, दूरी जानकर दंग हो जायेंगे आप

दोस्तों जैसा कि हम सभी जानते हैं कि नहरों के किनारे ही कृषि का विकास होता है. इसके साथ ही ये नहर यातायात का प्रमुख मार्ग माने जाते हैं. यूं तो आमतौर नहर ज्यादा लंबे नहीं होते लेकिन आज हम आपको एक ऐसे नहर के बारे में बताने जा रहे हैं, जो इतनी लंबी है कि उसे पार करने में जहाजों को औसतन 10 घंटे लग जाते हैं.

इस नहर का नाम है पनामा नहर, जो मध्य अमेरिका के पनामा में स्थित है. इसकी लंबाई 22 मील है. समंदर के रास्ते होने वाले अंतरराष्ट्रीय कारोबार एक बड़ा हिस्सा पनामा नहर से होकर गुजरता है. ये नहर प्रशांत महासागर को अटलांटिक महासागर से जोड़ती है. इस नहर से हर साल 15 हजार से भी अधिक छोटे-बड़े जहाज गुजरते हैं. पनामा नहर मीठे पानी की झील ‘गाटुन’ से होकर गुजरती है, जिसका जलस्तर समुद्रतल से लगभग 26 मीटर ऊपर है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि जब पनामा नहर बनी थी, तब यहां से करीब 1000 जहाज गुजरा करते थे. यह दुनिया का अकेला ऐसा जलमार्ग है, जिसे पार करने में अच्छे-अच्छे कैप्टनों के पसीने छूट जाते हैं, इसलिए जहाज जब इस नहर से गुजरती है तो कप्तान जहाज का नियंत्रण पूरी तरह से पनामा के स्थानीय विशेषज्ञ कप्तान को सौंप देता है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper