ये है दुनिया के ऐसे देश जहां आज भी है सबसे ज्यादा भुखमरी

नई दिल्ली: ग्लोबल हंगर इंडेक्स की इस साल की सूची जारी हो चुकी है। इस सूची के मुताबिक भुखमरी के शिकार देशों में भारत का स्थान 94 नंबर पर हैं। हालांकि पिछले साल की तुलना में इस स्तर में सुधार हुआ है। लेकिन इसके बावजूद भी आर्थिक तौर पर कमजोर माने जाने वाले पड़ोसी देशों जैसे बांग्लादेश म्यांमार और पाकिस्तान से अभी भारत पीछे है। रिपोर्ट के मुताबिक, भारत की 14 फीसदी आबादी कुपोषण की शिकार है। इस बीच आज हम आपको दुनिया के देशों के बारे में बताने वाले हैं जो हंगर इंडेक्स में सबसे ज्यादा आगे है।

सबसे पहले बात करते हैं हैती की करते हैं। भुखमरी के शिकार देशों में इस देश का नाम सबसे ज्यादा ऊपर आता है। यहां कई दूसरी परेशानियों के बीच बार-बार प्राकृतिक आपदाओं का आना एक बड़ी वजह वजह से है। यहाँ की 55 फ़ीसदी आबादी गरीबी रेखा से नीचे रह जाती है।

लीबिया और सूडान से घिरा हुआ देश चण्ड भुखमरी के शिकार देशों में शामिल है इस देश की अधिकांश आबादी को खाने के लिए खाना ही नहीं मिल रहा है वही इस देश में कुपोषण इतना ज्यादा है कि 1 से 5 साल के बच्चों में मृत्यु दर काफी ज्यादा है हर 10 में से एक बच्चा पांचवे जन्मदिन से पहले ही खत्म हो जाता है।

दक्षिण अफ्रीका देश मोजांबिक को भुखमरी के देशों की सूची में पांचवें नंबर पर रखा गया है। आपको बता दें कि दरअसल 2015 में देश की हालत कुछ सुधरी थी लेकिन इसके बाद लगातार नीचे आता रहा। इस देश की 32 फीसदी आबादी भुखमरी का शिकार है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper