ये है मर्सिडीज की कीमत का ट्रैक्टर, खेती नहीं बल्कि इस काम में होता है उपयोग

लखनऊ: तीनों कृषि आंदोलन के विरोध में दिल्ली की सीमाओं पर पिछले डेढ़ दो महीने से आंदोलन चल रहा है. वहीं गणतंत्र दिवस यानि 26 जनवरी को आयोजित की जाने वाली किसानों की ट्रैक्टर रैली के लिए पंजाब, हरियाणा समेत विभिन्न प्रांतों से किसान ट्रैक्टर लेकर आंदोलन स्थल पर पहुंच रहे हैं. अब इस आंदोलन में पहुंचा एक ट्रैक्टर लोगों के लिए आकर्षण का केन्द्र बना हुआ है. बता दें कि इस ट्रैक्टर की कीमत किसी लक्जरी कार से कम नहीं है. तो आइये जानते हैं इस ट्रैक्टर की खासियत, कीमत और उपयोग.

35 लाख रूपये है कीमत

इस ट्रैक्टर के मालिक हरियाणा के जहांगीरपुर चौधरी सुनील गुलिया है जो कि यहां कि गुलिया खाप के प्रधान है. वे बताते हैं कि यह ट्रैक्टर मॉडिफाई करवाया गया है. जो कि ऑडी और मर्सिडीज जैसी लक्जरी कार के बराबर कीमत का है. इसे मोडीफाई कराने में अब तक 35 से 36 लाख रूपये खर्च कर चुके हैं. ट्रैक्टर मालिक का कहना हैं कि लोग इस ट्रैक्टर को देखकर आकर्षित हो रहे हैं और सेल्फी ले रहे हैं. कई लोग इसके वीडियो बना रहे हैं.

सुनील के चाचा ओम प्रधान का कहना है कि इसे वे खेती के लिए इस्तेमाल नहीं करते हैं. फिर इतने महंगे ट्रैक्टर से क्या काम लिया जाता इस सवाल पर उनका कहना है कि शौक की कोई कीमत नहीं होती है. जैसे पहले लोग शौक के तौर पर हाथी पालते थे. यह हमारी शान का प्रतीक है. हमने इसे अपनी खाप को समर्पित किया है. जब खाप का कोई आयोजन होता है तब हम इसका उपयोग करते हैं. इसे बनवाने में अब तक 35 से 36 लाख रूपये खर्च हो चुके हैं. हम इसमें अब एक तोप भी लगवाएंगे.

8 पहिए वाला ट्रैक्टर

आमतौर पर भारत में ट्रैक्टर में आगे दो छोटे पहिए और दो बड़े पहिए पीछे होते हैं. लेकिन इस ट्रैक्टर में 4  पहिए आगे और 4 बड़े पहिए पीछे लगे हुए है. इसके अलावा इसमें विशेष प्रकार हॉर्न, रंगीन लाइटें हैं. वहीं इसकी ट्राली भी काफी बड़ी और खास है. जिसमें लग्जरी सीटें लगी हुई है.

खबर साभार : कृषि जागरण 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper