योगी के नेतृत्व में अंतिम पायदन पर खड़े व्यक्ति को मिल रहा शत प्रतिशत लाभ : महापौर

लखनऊ। उत्तर प्रदेश सरकार के सफलतम 04 वर्ष पूर्ण होने के उपलक्ष्य में नगर निगम लखनऊ द्वारा महानगर स्थित कल्याण मण्डप पर मिशन व्यापारी कल्याण एवं रोजगार कार्यक्रम आयोजित किया गया, जिसमे मुख्य अतिथि कैबिनेट मंत्री आशुतोष टण्डन, महापौर संयुक्ता भाटिया, मंत्री ब्रजेश पाठक, महेंद्र सिंह, विधायक सुरेश तिवारी, सुरेश श्रीवास्तव ने पीएम स्वनिधि योजना के लाभार्थियों को चेक और प्रमाण पत्र वितरित किया।

इस मौके पर महापौर संयुक्ता भाटिया ने लाभार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि योगी जी के कार्यकाल में कोई दंगा नही हुआ,यह सरकार की बड़ी उपलब्धि है, पहले जहाँ रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड और बाजारों में स्लोगन लिखा रहता था कि कोई अनजान वस्तु को हाथ न लगाएं उसमे बम हो सकता है, आज योगी के नेतृत्व में हमारी सरकार ने सबके अंदर सुरक्षा का माहौल पैदा करने का काम किया है और ऐसे डरावने स्लोगन की जगह स्वच्छ्ता अभियान के स्लोगनों ने ले ली है। उत्तर प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री ने अपराधियो पर लगाम लगाई है। पहले जहाँ पुलिस अपराधियों से डरती थी आज वही अपराधी पुलिस के डर से प्रदेश छोड़ कर भाग रहे है।

महापौर ने कहा कि पहले यूपी में केंद्र सरकार की योजनाओं को जगह नहीं दी जाती थी, अगर केंद्र सरकार की योजनाओं को पुरानी सरकार लागू करती तो बड़ा परिवर्तन हो सकता था। हमारी सरकार के यशस्वी मुख्यमंत्री ने इन्हें लक्ष्य बनाकर में लागू किया, आज प्रधानमंत्री आवास योजना के मोर्चे पर यूपी नंबर वन है. प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना में सिर्फ लखनऊ में ही 35 हज़ार लोगों को 10 हज़ार रुपये का लोन उपलब्ध करा उन्हें रोजगार और आत्मनिर्भरता की ओर बढ़ाकर उन्हें आत्मसम्बल प्रदान किया गया है। पहले कभी यूपी में कोई निवेश नहीं करना चाहता था, लेकिन आज मुख्यमंत्री के नेतृत्व में यूपी निवेश की पहली पसंद बना है। प्रदेश में करीब 35 लाख युवाओं को इनसे सीधे नौकरी मिली है. नए उद्योगों के लिए कई सारी छूट दी गई हैं, जिससे नए उद्योग लगने में आसानी हो रही है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश को बीमारू राज्य से स्वास्थ्य और बलशाली राज्य की श्रेणी में ला दिया है। योगी के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश में गरीबो, जरूरतमंदों और अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति को सरकारी योजनाओं को शत प्रतिशत लाभ मिल रहा है।

महापौर ने कहा कि मैं नगर निगम की बात करूं तो 04 वर्षों में नगर निगम लखनऊ द्वारा 847 करोड़ रुपये के सड़क, नाली व नाला निर्माण कार्य लखनऊ के विकास में किया गया। म्युनिसिपल बांड जारी करने वाला लखनऊ उत्तर भारत का प्रथम राज्य बना, तम्बाकू वितरण पर लाइसेंस जारी करने वाला पहला शहर बना, लखनऊ को स्वच्छता रैंकिंग 269 वें स्थान से 12 वें स्थान पर बड़ी छलांग लगाकर आई। कोरोना काल मे 80 हज़ार लोगों को प्रतिदिन भोजन कराया गया, 72 हज़ार लोगों के प्रतिव्यक्ति 1000 रुपये का लाभ दिलाया गया, पूरे शहर को सैनिटाइज किया गया, 2400 डस्टबिन लगाए गए और 26000 डस्टबिन जनता में वितरित किये गए। लखनऊ में 2 लाख 20 हज़ार एलईडी लाइटे लगाई गई है, प्रमुख चौराहों पर 33 नए फौवारे लगे, 274 सेमी हाईमास्ट और 2500 नए पोल लगाए गए, बैकुंठ धाम और गुलाला घाट पर विधुत शवदाह गृह का निर्माण कराया गया, आगे पर्यावरण अनुकूल और सनातनी परंपरा का निर्वाहन करने वाले हरित शवदाह गृह का निर्माण भी कराया गया। 65 खुले कूड़ाघरो को समाप्त किया गया। पेयजल समस्या के निस्तारण हेतु 10 बड़े 65 मिनी ट्यूबवेल लगाए गए, और 60 ट्यूबवेल को रिबोर भी किया गया। लखनऊ को ओडीएफ++ शहर बनाया, 74 पिंक टॉयलेट का निर्माण कराया गया, लखनऊ वन ऐप, कमांड एंड कंट्रोल रूम की स्थापना करा, लखनऊ में कैमरे लगाए गए जिससे शहर की निगरानी बेहतर तरीके से हो रही है। 30 नई फॉगिंग मशीन और 185 साईकल चलित फोगिंग मशीने खरीदी गई है।

इस मौके पर कैबिनेट मंत्री आशुतोष टण्डन, महापौर संयुक्ता भाटिया, मंत्री ब्रजेश पाठक, महेंद्र सिंह, विधायक सुरेश तिवारी, सुरेश श्रीवास्तव, सिंधी अकादमी के उपाध्यक्ष नानक चंद्र लखमानी, नीरज सिंह, महानगर अध्यक्ष मुकेश शर्मा, महामंत्री त्रिलोक सिंह अधिकारी, सुनील यादव, उपाध्यक्ष रजनीश गुप्ता, उपनेता कौशलेंद्र द्विवेदी सहित पार्षद, मण्डल अध्यक्ष और विशिष्ट जन उपस्थित रहे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper