योगी के मंत्री राजभर ने शाहनवाज और नकवी के नाम बदलने की मांग की

दिल्ली ब्यूरो: अक्सर लोग कहते हैं कि नाम में क्या रखा है। लेकिन बीजेपी जिस तरीके से नाम बदलती जा रही है उससे साफ़ लगता है कि नाम में बहुत कुछ रखा है। वोट की बारिस की संभावना है। यूपी की योगी सरकार में सहयोगी पार्टी के मंत्री ओमप्रकाश राजभर योगी की नाम बदलने की राजनीति से कुछ ज्यादा ही आहात हैं। इलाहाबाद का नाम प्रयागराज और फैजाबाद का नाम अयोध्या करने पर राजभर कुछ ज्यादा ही नाराज हो गए हैं।

राजभर ने बीजेपी पर निशाना साधा है। उन्होंने इसे असल मुद्दों से भटकाने के लिए नाटक करार दिया है। उन्होंने कहा कि शाहनवाज हुसैन बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता हैं। मुख्तार अब्बास नकवी केंद्रीय मंत्री हैं और यूपी सरकार में मोहसिन रज़ा मंत्री हैं। बीजेपी के यह 3 मुस्लिम चेहरे हैं, पहले इनके नाम बदलने चाहिए। बीजेपी इनका नाम क्यों नहीं बदल रही है। योगी जी को इसपर बयां देना चाहिए।

सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष राजभर ने कहा कि जब भी पिछड़े और शोषित वर्ग अपने अधिकार मांगने के लिए आवाज उठाते हैं तो उनका ध्यान भटकाने के लिए यह सब किया जाता है। उन्होंने कहा कि मुस्लिमों ने जो चीजें दी हैं वो और किसी ने नहीं दी है। राजभर ने सवाल किया, ‘क्या हम जीटी रोड फेंक दें? लाल किला को किसने बनवाया? ताज महल किसने बनवाया?’

दरअसल दिवाली के अवसर पर अयोध्या में आयोजित दीपोत्सव में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने फैजाबाद जिले का नाम बदलकर अयोध्या करने की घोषणा की थी। इसके अलावा उन्होंने अयोध्या में मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम के नाम पर एयरपोर्ट और राजा दशरथ के नाम पर मेडिकल कॉलेज बनवाने की भी बात कही थी।

बता दें कि यूपी में 2017 में गठबंधन की सरकार बनने पर कैबिनेट मंत्री बने ओम प्रकाश राजभर बीजेपी पर पहले से हमलावर रुख अपनाते रहे हैं। पहले भी वो कई मौकों पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की आलोचना कर चुके हैं। पिछले दिनों उनके यह बयान देने से कि 2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी की हार तय है, काफी हंगामा खड़ा हुआ था।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper