योगी सरकार का फैसला, 1 मरीज मिलने पर 20 घर हो जाएंगे सील

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में कोरोना के तेजी से बढ़ते मामलों को देखते हुए सरकार ने कड़े कदम उठाने के ऐलान किए हैं. योगी सरकार ने कहा है कि पूरे राज्य में फिर से कैंटोनमेंट जोन बनेंगे. यही नहीं, एक मामला सामने आने पर आस-पास के 20 घरों वाला इलाका सील कर दिया जाएगा और दो मामलों के मिलने पर 60 घर सील हो जाएंगे.

योगी सरकार के निर्देश

यूपी में कोरोना के बढ़ते मामलों को लेकर सरकार ने कड़े कदम उठाए हैं. सरकार ने कहा है कि शहरी इलाकों में कोरोना मरीज मिलने पर इलाके को कंटोनमेंट जोन घोषित कर दिया जाएगा. जिसमें एक से अधिक केस मिलने पर 60 मकानों का इलाका सील कर दिया जाएगा. इन कंटोनमेंट जोन में लोगों का आवागमन बंद हो जाएगा. वहां के लोगों को 14 दिन तक इसी स्थिति में रहना पड़ेगा. इस स्थिति को बरकरार रखने के लिए इलाके में सर्विलांस टीम सर्वे और जांच करेंगी. इसके लिए सभी जिलाधिकारियों और पुलिस अफसरों को आदेश जारी कर दिया गया है.

अपार्टमेंट्स के लिए भी बने नियम

योगी सरकार ने कहा है कि शहरी क्षेत्रों में बने बहुमंजिले अपार्टमेंट के लिए नियम कुछ अलग होंगे. इस नियम के तहत एक मरीज मिलने पर अपार्टमेंट की उस मंजिल को बंद कर दिया जाएगा. जबकि एक से अधिक मरीज मिलने पर ग्रुप हाउसिंग का संबंधित ब्‍लॉक सील होगा. वहीं, 14 दिनों तक एक भी मरीज न मिलने पर ही कंटेनमेंट जोन समाप्त होगा.

वैक्सीन की दोनों डोज लेने वाले होंगे पुरस्कृत

सरकार ने कहा है कि 16 जनवरी से 3 अप्रैल के बीच जिन लोगों ने दोनों डोज अपनी ले ली है, उन्हें पुरस्कृत करने के लिए सरकार लॉटरी सिस्टम निकालेगी. इसके तहत सीरियल नंबर की लॉटरी निकलने जा रही है और जिन जिलों में 25000 से ज्यादा लोगों ने कोरोना की वैक्सीन लगवा ली है, उन जिलों को इस स्कीम में शामिल किया जाएगा. इस स्कीम के तहत हर जिले के 4-4 लोगों को उपहार दिया जाएगा.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper