योगी सरकार की घोषणा के बाद यूपी में ई-श्रम पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन की आई बाढ़

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जब से ई-श्रम कार्ड वाले श्रमिकों के लिए 500 रुपये महीना देने की घोषणा की है तब से ई-श्रम पोर्टल पर रजस्ट्रेशन की बाढ़ आ गई है। घोषणा से पहले जहां हर दिन औसतन 4 लाख रजिस्ट्रेशन होते थे, वहीं, अब यह संख्या 7.5 गुना बढ़कर 30 लाख से अधिक हो गई है। बता दें उत्तर प्रदेश की योगी सरकार मार्च 2022 तक असंगठित क्षेत्र के मजदूरों को 500-500 रुपये उनके बैंक खातों में भेजने की घोषणा की है।

इस घोषणा के बाद यूपी में ई-श्रम पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कराने वाले श्रमिकों की संख्या में बहुत बड़ा उछाल आया है। 18 दिसंबर को 4 लाख 18 हजार 217 लोगों ने रजिस्ट्रेशन कराया था। इसके बाद 19 दिसंबर को एक दिन में रजिस्ट्रेशन कराने वाले श्रमिकों की यह संख्या 10 लाख को पार कर गई। 24 दिसंबर को यह 20 लाख और 25, 26 व 27 दिसबंर को यह आंकड़ा 30-30 लाख को भी पार कर गया। बता दें 17 दिसंबर तक यूपी के 25691084 श्रमिकों ने अपना रजिस्ट्रेशन कराया था और 27 दिसंबर तक इनकी संख्या 4.47 करोड़ से अधिक हो गई है।

घोषणा से पहले और कुछ दिन बाद तक ई-श्रम पोर्टल पर रजिस्ट्रेश कराने वाले यूपी के जिलों में कुशीनगर अव्वल था, लेकिन अब यह खिसक कर 8वें स्थान पर पहुंच गया है। अब सीतापुर ई-श्रम कार्ड बनवाने वाले लोगों की लिस्ट में प्रदेश में नंबर वन है। यहां अब तक 1140681 लोग रजिस्ट्रेशन करा चुके हैं। गोरखपुर को पछाड़कर जौनपुर 1111528 श्रमिक कार्ड धारकों के साथ दूसरे नंबर पर है। अब तीसरे स्थान पर गोरखपुर है। इसके अलावा टॉप 5 में हरदोई और बरेली भी आ गए हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper