योगी सरकार में ‘व्हीलचेयर’ पर आ गया गुण्डातंत्र – स्वतंत्रदेव सिंह

लखनऊ। उत्तर प्रदेश का बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी बुधवार को ‘व्हीलचेयर’ में बैठकर मोहाली कोर्ट में पेश हुआ। इस दौरान वह बेसुध दिखा। इस पर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने ट्वीट कर कहा कि योगी सरकार में गुण्डातंत्र ‘व्हीलचेयर’ पर आ गया है! वहीं, पंजाब के रोपड़ जेल में बंद मुख्तार की पत्नी अफशां अंसारी ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द को पत्र लिखकर मांग की है कि उसके पति को पंजाब से उत्तर प्रदेश लाने के दौरान सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए जाएं।

अफशां अंसारी को डर है कि मुख्तार की सुरक्षा के लिए जिम्मेदारी तय किए बगैर यूपी भेजा गया तो सरकार कोई न कोई झूठी कहानी रचकर हत्या करवा देगी। ऐसे में उसने राष्ट्रपति से गुजारिश है कि अगर उसके पति उत्तर प्रदेश लाए जाते हैं तो सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम करने के आदेश दें। उल्लेखनीय है कि सर्वोच्च न्यायालय के आदेश के बाद मुख्तार अंसारी को उत्‍तर प्रदेश लाया जाना था। लेकिन बुधवार को मोहाली कोर्ट में मामले की सुनवाई अब अगली तारीख 12 अप्रैल तक के लिए टाल दी गई है। इस दौरान कोर्ट ने मुख्तार को वापस पंजाब की रोपड़ जेल में शिफ्ट कर दिया है।

मुख्तार अंसारी को पंजाब की रोपड़ जेल से लाने के लिए यूपी पुलिस की ओर से अभी तक किसी भी विशेष टीम का गठन नहीं किया गया है। जबकि प्रदेश के गृह विभाग का मानना है कि सर्वोच्च न्यायालय के आदेश के अनुसार मुख्तार को उप्र लाना पंजाब पुलिस की जिम्मेदारी है। अगर पंजाब पुलिस को किसी भी तरह की मदद चाहिए तो यूपी पुलिस देने ​को तैयार है।

उत्तर प्रदेश में लाने के बाद मुख्तार अंसारी का कोरोना टेस्ट के साथ शारीरिक परीक्षण किया जायेगा। कोरोना रिपोर्ट आने के बाद ही आगे की कार्रवाई अमल में लायी जायेगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper