राजधानी सहित प्रदेश में शीत लहर का प्रकोप जारी, अगले दो-तीन दिन तक ऐसे ही रहेंगे हालात

लखनऊ: राजधानी में शीत लहर का प्रकोप जारी है। पहाड़ों से आ रही बर्फीली हवाओं से तीसरे दिन भी राजधानी के लोग दिनभर ठिठुरते रहे। दिन में हल्की धूप निकली लेकिन वह भी ठिठुरन को कम नहीं कर पायी। गुरुवार को सामान्य से आठ डिग्री सेल्सियस की गिरावट हुई है। गुरुवार को अधिकतम तापमान आठ डिग्री गिरकर 15.8 डिग्री सेलिसयस रिकार्ड किया गया। न्यूतम तापमान भी एक डिग्री कम होकर 8.2 डिग्री रहा।

मौसम की जानकारी देने वाली साइट एक्यूवेदर के अनुसार 19 दिसम्बर 2018 को अधिकतम तापमान 22 डिग्री तथा न्यूनतम तापमान छह डिग्री रहा था। मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि अगले दो-तीन दिन तक हालात लगभग ऐसे ही रहेंगे। लखनऊ के लोग दो से तीन दिनों तक ठंड से कंपकंपाएंगे। रात का तापमान भी सामान्य से नीचे जाने का अंदेशा है। मौसम विभाग ने चेतावनी जारी की है कि राजधानी सहित प्रदेश के कुछ इलाकों में शीत लहर का सामना करना पड़ सकता है।

प्रदेश में ठंड का कहर जारी है। बर्फबारी से ढके जम्मू-कश्मीर और हिमांचल की बर्फीली हवाएं मैदानी इलाकों को सर्द किये हुए हैं। उत्तर पश्चिम से आने वाली बर्फीली हवाओं ने लखनऊ के मौमस को एकदम से सर्द कर दिया है। पहाड़ों पर हुई बर्फबारी के बाद उत्तर पश्चिम से आ रही सर्द हवा ने गलन और ठिठुरन बढ़ा दी है। मौसम विभाग के निदेशक जे पी गुप्ता के मुताबिक अगले दो से तीन दिन तक शीत लहर का यह दौर जारी रह सकता है। शुक्रवार को सुबह घना कोहरा रहेगा।

दिन में धूप निकलेगी लेकिन उसका असर बहुत कम रहेगा। मौसम विभाग के अनुसार अगले 48 घंटों में यूपी में ठंडी हवाएं चलेंगी। हवाओं की वजह से प्रदेश के कई भागों में न्यूनतम तापमान 2-3 डिग्री तक गिर सकता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper