राज्यसभा चुनाव: बसपा प्रत्याशी की राह मुश्किल करने के लिए भाजपा ने बिछायी चौसर

लखनऊ: राज्यसभा की 9वीं सीट को लेकर लड़ाई बेहद दिलचस्प हो गयी है। भारतीय जनता पार्टी प्रदेश मुख्यालय में गुरुवार को जीत की समीकरण बनाने को लेकर रणनीतिकार लगे रहे। प्रदेश अध्यक्ष डा. महेन्द्र नाथ पाण्डेय अपने कक्ष में मौजूद रहकर स्थितियों पर नजर बनाये हैं। राज्यसभा के चुनाव में भाजपा ने एक अतिरिक्त उम्मीदवार अनिल अग्रवाल को उतारकर बसपा प्रत्याशी भीमराव अम्बेडकर की राह मुश्किल करने के लिए अपनी चौसर बिछायी है। पार्टी रणनीतिकार अब निर्दल विधायकों व बागियों पर जीत के लिए नजर टिकाये हैं।

पार्टी किसी भी तरह टाई (बराबर) वोट के इंतजाम में लगी है, ताकि द्वितीय वरीयता के मत से जीत दर्ज की जा सके। हालांकि स्थितियां अभी भी पेचीदा बनी हुई हैं। पार्टी ने अपने सभी महामंत्रियों व क्षेत्रीय संगठन मंत्रियों की टीम बनाकर अतिरिक्त वोटों के जुगाड़ में लगा रखा है, लेकिन अभी तक प्रबंधन में लगे टॉप नेता भी मुतमईन नजर नहीं आ रहे हैं। पार्टी अपने सभी विधायकों को सहेजने के लिए मंत्रियों को जिम्मा दे रखा है। कैबिनेट मंत्रियों की अध्यक्षता में बना मंत्री ग्रुप 12-12 विधायकों के साथ बैठा और देर शाम तक उन्हें एक बार फिर प्रशिक्षण दिया गया।

इसके साथ पार्टी प्रत्याशी भी राजधानी में आ गये हैं। केन्द्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने भी अपने प्रतिनिधियों को दिल्ली से भेजा है। भाजपा के चुनाव प्रबंधन से जुड़े सूत्र ने बताया कि अभी पार्टी सभी उम्मीदवारों के लिए 37-37 विधायक आवंटित कर रही है। जेटली के लिए योगी सरकार में विधानसभा से आने वाले कैबिनेट व राज्य मंत्रियों को आवंटित किया गया है। इन्हीं मंत्रियों को बाद में पार्टी आब्जर्बर के तौर पर इस्तेमाल करेगी। सूत्रों का कहना है कि अभी तक भाजपा के अतिरिक्त प्रत्याशी के पक्ष में गणित पूरी तरह नहीं आ पायी है। हालांकि एक-एक दल के विधायक धीरे-धीरे अपने पत्ते खोलने लगे हैं और पार्टी निर्दल विधायकों का भी साध मिलने की आस लगाये है। वोटे के प्रबंधन में देर रात तक प्रत्याशी भी लगे रहे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper