रात में कुत्तों के रोने का कारण जानकार आपकी भी नींदें उड़ जाएंगी

लखनऊ: अक्‍सर आपकी दादी नानी कहती हैं अरे इस कुत्‍ते को चुप कराओ ये क्‍यों रहा है। वो कहती है कि कुत्‍तों का रोना अशुभ है, पर क्‍या वाकई। ऐसा बिलकुल नहीं है। क्‍या आपने कभी सोचा है असल में कुत्‍ते क्‍यों रोते हैं। सच तो ये है कि कुत्‍ते रोते नहीं है बल्‍कि इसे हाउल करना कहते हैं और ये उनकी संदेश पहुंचाने या अपनी बात कहने की तकनीक होती है। दरसल कुत्‍तों को भेड़ियों की प्रजाति का माना जाता है और वो उसी तरह से व्‍यवहार करते हैं। भेड़िये भी संदेश पहुंचाने के लिए हाउल करते हैं। आइये जाने पांच वजह जब कुत्‍ते हाउल करते हैं।

अपने साथियों तक संदेश पहुंचाने के लिए

जब कोई कुत्‍ता अपने झुंड तक अपनी लोकेशन पहुंचाना चाहता है या अपने साथियों को ढूंढ रहा होता है तो हाउल करके संदेश देता है कि वो कहां है और उसके साथी पलट कर हाउल करके उसे अपना जवाब भी देते हैं।

अपने इलाके का एलान करने के लिए

हर गली और मुहल्‍ले में कुत्‍तों के इलाके होते हैं और उसमें दूसरे एरिया के कुत्‍तों का आना वर्जित होता है। ऐसे में जब कोई दूसरा कुत्‍ता एंट्री लेने की कोशिश करता है तो उस एरिया के कुत्‍ते गुर्रा कर और हाउल करके उसे वार्न करते हैं, और अपने दूसरे साथियों को इलाके की सुरक्षा के लिए आवाज देते हैं।

कंप्‍लेन करने के लिए

कुत्‍तों को अकेलापन और उपेक्षा बिलकुल पसंद नहीं होता। इसीलिए आप नोटिस कीजिए की कोई अपने पालतू कुत्‍ते को अकेला घर में बंद करके बाहर चला जाये या फिर उसको इग्‍नोर करे तो वे हाउल करते हैं। ये उनका शिकायत करने का तरीका होता है।

दर्द जाहिर करने के लिए

कुत्‍तों को अगर चोट लग जाये तो भी वो दर्द से कराहते हुए हाउल करते हैं। वैसे वे उलझन होने पर भी हाउल करते हैं विशेष रूप से जब वो आपको कोई बात समझाने की कोशिश कर रहे हों और आप उसे समझ ना सकें। वैसे अगर बिच के बच्‍चे कहीं चले जायें तो भी उनकी तलाश के लिए हाउल करती है।

इस चिढ़ और गुस्‍से का ये मतलब नहीं है कि वो किसी को काटना चाह रहे है और गुस्‍से गुर्रा या भौंक रहे हैं। दरसल जब वो किसी चीज से इरिटेट हो रहे हों और अपनी नाराजगी जाहिर करना चाहते हों तो हाउल करते हैं। जैसे कुत्‍तों को तेज आवाजें, किसी खास किस्‍म का लाउड म्‍यूजिक या बर्तनों का पटकना फेंकना बिलकुल अच्‍छा नहीं लगता तो वे हाउल करते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper