राप्ती अपार्टमेंट में लड़कियों को लगाया गया सर्वाइकल कैंसर की रोकथाम हेतु टीका

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के गोमती नगर विस्तार स्थित राप्ती अपार्टमेंट में शनिवार को गंगा लक्ष्मी आईवीएफ सेंटर के तत्वाधान में एकदिवसीय बच्चेदानी के मुंह के कैंसर की रोकथाम हेतु अपार्टमेंट की लड़कियों को डॉक्टर कुमुदिनी चौहान के द्वारा टीका लगाया गया.

भारत में हर 8 मिनट में एक महिला की मौत बच्चे दानी के कैंसर से हो रही है. इसे सर्वाइकल कैंसर भी कहते हैं. साफ सफाई के अभाव और असुरक्षित शारीरिक संबंध बनाने से एक विषाणु से बच्चेदानी के मुंह पर इंफेक्शन हो जाता है. इस इंफेक्शन को कैंसर बनने में लगभग 8 से 10 साल का समय लग जाता है.

आपको बता देते हैं कि बच्चेदानी के मुंह का कैंसर महिलाओं में होने वाले कैंसर में दूसरे स्थान पर आता है. यह न केवल रोका जा सकता है अपितु इसे बहुत जल्दी पकड़ा जा सकता है और समय पर पकड़ा जाए तो इसका पूर्णतः इलाज भी संभव है. बच्चे दानी से गंदें पानी का रिसाव, माहवारी का अनियमित होना, संभोग के समय खून आना, कमर या पैर में अधिक दर्द होना या पेशाब में रूकावट इसके प्रारंभिक लक्षण हैं.

डॉक्टर कुमुदिनी चौहान ने बताया कि अगर यह टीका 9 से 15 वर्ष की उम्र में लग जाए तो 90 फीसदी मामलों में कैंसर होने से बचा जा सकता है. यूं तो यह टीका बच्चियों में ही लगाया जाता है लेकिन अब इसे 45 वर्ष तक की महिलाओं को भी लगाया जा सकता है. लेकिन इसकी सफलता की दर 50 फीसदी तक रह जाती है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper