अगर आपके पास भी है राशन कार्ड तो आपके लिए है खुशखबरी, 15 अप्रैल से मुफ्त दाल और चावल देगी योगी सरकार

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के सभी राशन कार्ड धारकों (ration card holders) को 15 अप्रैल से मुफ्त में चावल और दाल वितरित किया जाएगा। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत अंत्योदय हो या पात्र गृहस्थी कार्ड धारक, सभी को राशन कार्ड में दर्ज यूनिट के हिसाब से राशन मिलेगा। यानी प्रति यूनिट 5 किलो चावल और प्रति राशन कार्ड 1 किलो दाल मुफ्त वितरित किया जाएगा।

जानकारी के अनुसार, सोशल डिस्टेन्सिंग का ध्यान रखते हुए राशन की दुकानों पर टोकन सिस्टम लागू किया जाएगा। कोटेदार कार्ड धारकों को सुबह से शाम तक प्रति घंटे के हिसाब से राशन समय से देगा, जिससे लोग अपने समय पर आएंगे और राशन लेंगे। इससे दुकान पर एक वक्त में 5 से अधिक उपभोक्ता नही होंगे।

मुफ्त राशन वितरण अनिवार्य रूप से नोडल अधिकारियों की मौजूदगी में होगा, जिससे राशन किसे मिला यह प्रमाणित हो सके। दूसरे विभागों के अधिकारी भी पर्यवेक्षक के रूप में लगे रहेंगे। डीएसओ सुनील कुमार सिंह ने बताया कि प्रति यूनिट पांच किलो चावल और प्रति कार्ड एक किलो दाल नि:शुल्क वितरित की जाएगी।

बता दें कि मुफ्त चावल का वितरण दिनांक 15 से 26 अप्रैल के बीच पूरा करा लिया जाएगा। वहीं इधर चल रहा राशन का नियमित वितरण 12 अप्रैल तक पूरा किया जाने के निर्देश दिए गए हैं। क्योंकि ई -पॉस मशीन में वितरण के लिए आवश्यक तकनीकी परिवर्तन किए जाएंगे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper