राष्ट्रपति जेलेंस्की ने की पीएम मोदी से बात, यूएनएससी में समर्थन देने की लगाई गुहार

नई दिल्ली। यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर जेलेंस्की ने शनिवार को कहा कि उन्होंने रूस की आक्रामकता पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात की है और उनसे संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में ‘राजनीतिक समर्थन’ मांगा है।रूस द्वारा संयुक्त राष्ट्र में उसके ‘सैन्य अभियान’ की निंदा करने के लिए हुई वोटिंग से दूर रहने के भारत के फैसले की प्रशंसा करने के तुरंत बाद यूक्रेनी राष्ट्रपति ने मोदी से बात करने का खुलासा किया है।

जेलेंस्की ने कहा कि उन्होंने मोदी के साथ बात की और यूक्रेन द्वारा रूसी आक्रमण को दूर करने के तरीके के बारे में बताया। उन्होंने ट्वीट किया, “हमारी भूमि पर 100,000 से अधिक आक्रमणकारी हैं। वे आवासीय भवनों पर घातक रूप से गोलीबारी कर रहे हैं।” उन्होंने भारत से संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में यूक्रेन को राजनीतिक समर्थन देने का आग्रह किया।

उन्होंने इस आक्रामकता को संयुक्त रूप से रोकने का आग्रह किया। यह कहते हुए कि बातचीत ही मतभेदों और विवादों को निपटाने का एकमात्र तरीका है, भारत ने यूएनएससी के प्रस्ताव पर मतदान से परहेज किया था, जो यूक्रेन के खिलाफ रूस की आक्रामकता की कड़ी निंदा करने के लिए लाया गया था।

भारत में रूसी दूतावास ने शनिवार को एक ट्वीट में कहा, “हम 25 फरवरी, 2022 को यूएनएससी में हुए मतदान में भारत की स्वतंत्र और संतुलित स्थिति की बहुत सराहना करते हैं।” इसने आगे कहा, “विशेष और विशेषाधिकार प्राप्त रणनीतिक साझेदारी की भावना में रूस यूक्रेन के आसपास की स्थिति पर भारत के साथ घनिष्ठ संवाद बनाए रखने के लिए प्रतिबद्ध है।”

यूएनएससी में अमेरिका और अल्बानिया द्वारा प्रस्तुत मसौदा प्रस्ताव पर मतदान किया गया और ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया, एस्टोनिया, फिनलैंड, जॉर्जिया, जर्मनी, इटली, लिकटेंस्टीन, लिथुआनिया, लक्जमबर्ग, न्यूजीलैंड, नॉर्वे, पोलैंड, रोमानिया सहित कई अन्य देशों द्वारा सह-प्रायोजित किया गया।

जबकि रूस, जिसने यूएनएससी की बैठक की अध्यक्षता की, क्योंकि फरवरी के महीने के लिए पहले से ही उसके पास अध्यक्ष का पद धारण करने का अधिकार था, ने प्रस्ताव को वीटो कर दिया। वहीं भारत के अलावा चीन और यूएई ने भी वोटिंग से अनुपस्थित रहने का विकल्प चुना।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper