राष्ट्रीय टी बी उन्मूलन कार्यक्रम के अन्तर्गत स्टेट टास्क फोर्स की 43वीं बैठक एसआरएमएस मेडिकल कॉलेज, बरेली में सम्पन्न

बरेली,16 सितंबर। एसआरएमएस मेडिकल कालेज में कल राष्ट्रीय टीबी उन्मूलन कार्यक्रम के तहत स्टेट टास्क फोर्स की 43वीं बैठक सम्पन्न हुई। इसमें प्रदेश के सभी मेडिकल कालेजऔर सभी जिलों के जिला क्षय रोग अधिकारियों ने हिस्सा लिया। इसके साथ ही टीबी की निशुल्क जांच के लिए एसआरएमएस में यू डीएसटी (यूनिवर्सल ड्रग सेंस्टिविटी टेस्टिंग) लैब का भी औपचारिक उद्घाटन किया गया।

माइक्रोबायोलाजी विभागाध्यक्ष डा.राहुल गोयल के अनुसार एसआरएमएस में संचालित इस यू डीएसटी लैब में टीबी के लिए दी जाने वाली दवाइयों की रेसिस्टेंट का पता लगाया जाता है। दो हजार रुपये से ज्यादा की लागत वाली यह जांच एसआरएमएस मेडिकल कॉलेज में निशुल्क है और इसकी रिपोर्ट भी उसी दिन मिल जाती है। एसआरएमएस ट्रस्ट के चेयरमैन देवमूर्ति जी ने मीटिंग के उद्घाटन सत्र में कहाकि पहले इस बीमारी का मतलब निश्चित मृत्यु होता था। लेकिन आज स्थिति बदल गई है। अब टीबी एक साधारण बीमारी से ज्यादा कुछ नहीं। लेकिन लापरवाही पर यह आज भी खतरनाक है।उन्होंने टीबी की जांच के लिए स्क्रीनिंग बढ़ाने पर जोर दिया। राष्ट्रीय टीबी उन्मूलन कार्यक्रम के नेशनल टास्क फोर्स के चेयरमैन डा.अशोक भारद्वाज और स्टेट टास्क फोर्स के चेयरमैन डा.सूर्यकांत ने भी संबोधित किया। डा.भारद्वाज ने टीबी मरीजों की कम स्क्रीनिंग पर चिंता जताई और इसे बढ़ाने के उपायों पर बात की।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी का संकल्प 2025 तक देश में टीबी पर नियंत्रण करने का है।इसके लिए राष्ट्रीय टीबी उन्मूलन कार्यक्रम संचालित किया जा रहा है। लेकिन यह तभी संभव होगा जब टीबी उन्मूलन के लिए स्क्रीनिंग ज्यादा से ज्यादा हो और टीबी के मरीजों को खोज कर उनका सही विधि से इलाज किया जाए। अभी तक स्र्कीनिंग से सिर्फ पांच फीसद मरीजों की ही पहचान हो पाती है। इसे बढ़ाने की जरूरत है। 40 फीसद से ज्यादा मरीज ऐसे हैं जिन्हें पता ही नहीं कि उन्हे टीबी है। ऐसे में टीबी की स्र्कीनिंग के साथ इसकी टेस्टिंग बढ़ाया जाना आवश्यक है। डा.सूर्यकांत ने मीटिंग में उपस्थित सभी मेडिकल कालेजों में टीबी के मरीजों को दी जा रही सुविधाओं की समीक्षा की और मेडिकल कालेज के प्रतिनिधियों और जिला क्षय रोग अधिकारियों कोआवश्यक कार्यवाही के निर्देश दिए। उन्होंने कई जिलों के जिला क्षय रोग अधिकारियों के अनुपस्थित रहने पर भी नाराजगी जताई और इसकी शिकायत शासन से करने की बात कही।

उन्होंने कहा कि टीबी उन्मूलन कार्यक्रम सरकार की प्राथमिकता के साथ ही हम सब की प्राथमिकता में है। इसके बाद भी कई मेडिकल कालेज और जिला क्षय रोग अधिकारी इसे गंभीरता से नहीं ले रहे हैं । यह गंभीर विषय है। मीटिंग में डा.सुधीर चौधरी, डा.संजय सूर्यवंशी, डा.प्रीति, डा.ऋषि सक्सेना, डा. आदेश, डा.मयंक सक्सेना, डब्ल्यूएचओ के प्रतिनिधि, एसआरएमएस के डायरेक्टर आदित्य मूर्ति,प्राचार्य डा.एसबी गुप्ता, मेडिकल सुपरिटेंडेंट डा.आरपी सिंह, डिप्टी एम एस डा.सीएम चतुर्वेदी, कार्यक्रम के संयोजक डा.ललित सिंह, सह संयोजक डा.राजीव टंडन, डीन पीजी डा. पी एल प्रसाद. डीन यूजी डा.नीलिमा मेहरोत्रा और अन्य फैकल्टी सदस्य मौजूद रहे ।

बरेली से ए सी सक्सेना की रिपोर्ट

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper