राष्ट्रीय लोक अदालत के माध्यम से कुल 1,41,441 वादों का निस्तारण करते हुए धनराशि 26,59,10,637 रुपये की वसूल की गई

नई दिल्ली: नोडल अधिकारी/अपर जिला जज श्री इफ्तेखार अहमद ने बताया कि राष्ट्रीय लोक अदालत के माध्यम से विभिन्न न्यायालयों द्वारा 8262 वादों का निस्तारण किया गया।राष्ट्रीय लोक अदालत में अपर सत्र न्यायालय के 501 वाद, सिविल प्रकृति के 384 वाद, मोटर दुर्घटना प्रतिकर के 307 वाद, पारिवारिक मामलों के 61वाद, फौजदारी के 4,418 वाद तथा विभिन्न राजस्व न्यायालयों द्वारा 761 वादों का निस्तारण आपसी सुलह समझौते व अभिस्वीकृति के आधार पर किया गया। राष्ट्रीय लोक अदालत में 5289 ई चालानों तथा ई-डिस्ट्रिक पोर्टल के माध्यम से 88918 वादों का निस्तारण किया गया l

सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण न्यायाधीश श्री सौरभ कुमार वर्मा ने बताया कि अन्य विभागों द्वारा 38,632 वादों का सफल निस्तारण किया गया । मोटर दुर्घटना वादों में 10,02,41,000 रुपये की धनराशि प्रतिकर के रूप में पीड़ित पक्षकारों को दिलवाई गई, फौजदारी वादों में अर्थदंड के रूप में 15,63,780  रुपये की धनराशि वसूल की गई तथा दूरसंचार विभाग के 91 वादों का निस्तारण कर 2,71,628 रुपये की धनराशि वसूल की गई।

जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव श्री सौरभ कुमार वर्मा ने बताया कि लोक अदालत के आयोजन में जनपद न्यायालय परिसर में 4 जगह बैंकों के कैम्प लगाए गए, जिसमें विभिन्न बैंकों ने बैंक ऋण से संबंधित 2018 वादों का निस्तारण किया एवं कुल ऋण धनराशि 13,41,33,000 रुपये वसूल की गई। प्राधिकरण सचिव ने अवगत कराया कि राष्ट्रीय लोक अदालत में कुल समझौता धनराशि 26,59,10,637 रुपये रही l पारिवारिक न्यायालय के प्रधान न्यायाधीश श्री राजेंद्र प्रसाद त्रिपाठी द्वारा 18, अपर प्रधान न्यायाधीश श्रीमती कविता निगम द्वारा 22, अप्पर प्रधान न्यायाधीश श्रीमती सुनीता शर्मा द्वारा 21 ने लोक अदालत में कुल 61 वादों का निस्तारण किया गया।

सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण न्यायाधीश श्री सौरभ कुमार वर्मा ने बताया कि आजादी के अमृत महोत्सव के तहत हर घर तिरंगा आयोजन में लोक अदालत का उद्घाटन के पश्चात न्यायिक अधिकारियों और कर्मचारियों के साथ पौरालीगल वॉलंटियर्स ने तिरंगा यात्रा निकाली। जनपद न्यायालय के मुख्य द्वार से तिरंगा यात्रा शुरू होकर कलेक्ट्रेट गेट से होते हुए वार भवन के रास्ते न्यायालय गेट पर संपन्न हुई।

सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण न्यायाधीश श्री सौरभ कुमार वर्मा ने बताया कि तिरंगा यात्रा का शुभारंभ प्रभारी जिला जज श्री हरेन्द्र बहादुर सिंह ने हरी झंडी दिखाकर किया। तिरंगा यात्रा में पीएलवी श्री शुभम राय, श्री पुष्पेन्द्र, श्रीमती बंदना, श्रीमती साधना, श्रीमती सपना, श्रीमती मिथिलेश गंगवार, श्रीमती प्रभा, श्रीमती सावित्री रानी, श्री राजेश राय, श्री रजत कुमार, फ्री तुषार, श्री अंकुल, श्री तरुण, श्री अमित, श्रीमती पूजा सिंह, श्रीमती प्रभा, श्री शाश्वत, श्री सुधीर अग्रवाल, श्री ज्वाला देव अग्रवाल, श्री सत्यपाल सिंह के साथ जिला विधिक सेवा प्राधिकरण बरेली के कर्मचारी श्री बालक राम, श्री शुभेन्द्र पाराशरी, श्री एहसान खान, श्री नौशाद अली, श्री हेमेंद्र उपस्थित रहे। लोक अदालत में वाद कारियों की सुविधा के लिए जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की हेल्पडेस्क भी स्थापित की गई। जिसमें आने वाले वादकारियों को असुविधा से बचाने के लिए ई चालानों तथा अन्य लंबित मामलों के संबंध में जानकारियां हेल्पडेस्क पर मौजूद पी.एल.वी. द्वारा प्रदान कराई गई।

राष्ट्रीय लोक अदालत को सफल बनाने में समस्त न्यायिक अधिकारियों, बैंक-बीमा कंपनी के अधिकारियों, अन्य न्यायिक कर्मचारियों, पराविधिक स्वयं सेवकों तथा मीडिया कर्मियों का योगदान रहा ।

बरेली से ए सी सक्सेना की रिपोर्ट

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper