राहुल की ताजपोशी ने भाजपा को चिंता में डाला

नई दिल्ली: कांग्रेस की कमान राहुल गांधी के हाथ में देने के फैसले को लेकर भाजपा ‘इंतजार करो और देखो’ की भूमिका में है। हालांकि, भाजपा यही प्रदर्शित कर रही है कि इससे राष्ट्रीय राजनीति में कोई बदलाव नहीं आने वाला, लेकिन भीतरी तौर पर भाजपा नेता इस बदलाव को बेहद गंभीरता से ले रहे हैं। उसे उनके भाषणों से भी महसूस किया जा सकता है। गुजरात चुनाव में राहुल ने जिस तरह से भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को घेरे है, उसने उनकी परिपक्व राजनेता की छवि बनी है। यही वजह है कि पिछले कुछ समय से भाजपा नेता पप्पू कह कर उनका मजाक नहीं उड़ा रहे हैं।

भाजपा के रणनीतिकारों का मानना है कि राहुल के हाथ में कांग्रेस की कमान आने से स्थिति में बदलाव हो सकता है। हालांकि, पार्टी इस मामले में गुजरात और हिमाचल के चुनाव परिणामों का पहले इंतजार करना चाहती है। पार्टी सूत्रों का कहना है कि गुजरात के चुनाव प्रचार के दौरान राहुल गांधी ने जिस तरह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ अभियान चलाया है, वह उनकी राजनीतिक परिपक्वता का स्पष्ट प्रमाण है। विश्लेषकों का मानना है कि कांग्रेस का नेतृत्व पूरी तरह से हाथ में आने के बाद उनकी धार में तेजी आएगी।

हालांकि यह अभी नहीं कहा जा सकता कि राहुल सन 2019 में भाजपा के लिए बड़ा खतरा बन सकते हैं, लेकिन इतना जरूर है कि कमान मिलने के बाद कांग्रेस के भीतर जरूर राहुल की पकड़ मजबूत होगी। पार्टी में अब तक सत्ता के के दो भागों सोनिया गाधी और राहुल गांधी के बीच विभाजित थे। जिसका अनेक रणनीतिक फैसलों पर विपरीत असर पड़ता था। अब एक ध्रुवीय संगठन में राहुल गांधी से तेजी से फैसले लेने के लिए स्वतंत्र होंगे। इसका फायदा कांग्रेस को हो सकता है।

भाजपा के एक वरिष्ठ नेता के मुताबिक हम यह मान रहे हैं कि गुजरात में फिर से हमारी सरकार बनेगी, लेकिन अब तक के घटनाक्रम में इतना जरूर हुआ है कि राहुल एक गंभीर नेता में तब्दील हो गए हैं। जिस तरह से भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और प्रधानमंत्री सीधे राहुल को निशाना बना रहे हैं और राहुल के सवालों से बचने की कोशिश कर रहे हैं, उससे राहुल का कद बढ़ रहा है। भाजपा नेता भी अब राहुल को गंभीरता से लेने लगे हैं, यही वजह है कि पिछले कुछ समय से वे राहुल को पप्पू कह कर नहीं संबोधित कर रहे हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper