राहुल के अध्यक्ष बनने में पेंच, यह नेता लड़ेगा खिलाफ में चुनाव

नई दिल्ली: कई सालों के बाद कांग्रेस पार्टी में यह मौका आया हैं कि जब राहुल गांधी की ताजपोशी होने वाली है। इसके लिए पार्टी में अध्यक्ष पद के चुनाव की प्रक्रिया भी शुरू होने जा रही है। इस बीच,राहुल की ताजपोशी में पेंच आ गया है। कांग्रेस के एक युवा नेता ने कहा है कि वह कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए राहुल गांधी के खिलाफ चुनाव लड़ना चाहते हैं। ये युवा नेता हैं टीवी चैनलों पर अक्सर पार्टी का बचाव करते दिखने वाले शहजाद पूनावाला। पूनावाला ने कांग्रेस पार्टी और राहुल गांधी पर निशाना भी साधा।

हालांकि,कांग्रेस पार्टी ने बयान जारी कर कहा कि शहजाद पूनावाला इस बार कांग्रेस की कमेटी में नहीं शामिल हैं उनकी बातों को गंभीरता से नहीं लिया जाना चाहिए। महाराष्ट्र कांग्रेस के सचिव शहजाद पूनावाला ने कांग्रेस में अध्यक्ष की चयन प्रक्रिया पर सवाल उठाया और कहा कि अगर निष्पक्ष चुनाव हुआ तो वह अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ने का तैयार हूं। शहजाद पूनावाला ने ट्वीट कर वंशवाद को भी निशाना बनाया और कहा कि एक परिवार से किसी एक को ही पद मिलना चाहिए, चाहे वह कोई भी हो। पूनावाला का ये बयान इस वक्त में आया है जब कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में राहुल की ताजपोशी की तैयारियां जोरों पर हैं।

शहजाद पूनावाला ने कहा कि 2011 से मैं राहुल गांधी का एप्वाइंटमेंट लेना चाह रहा हूं ताकि उन्हें पार्टी में खामियों के बारे में बता सकूं। शहजाद पूनावाला ने कहा कि मेरा एजेंडा पार्टी को एक्सपोज करना नहीं है बल्कि सुधार करना है।मेरी कोशिश पार्टी में सुधार की है और इंतजार कर रहा हूं कि राहुल गांधी इस पर प्रतिक्रिया देते है। क्यों नहीं वे एक परिवार के एक सदस्य को ही टिकट देते हैं। शहजाद पूनावाला के इस बयान के बाद उनके भाई और कांग्रेस के ही नेता तहसीन पूनावाला ने ट्वीट कर शहजाद के इस बयान से खुद को अलग कर लिया और कहा कि अब उनका शहजाद से कोई लेना-देना नहीं है।

शहजाद पूनावाला के हमलों पर कांग्रेस ने भी प्रतिक्रिया दी है।कांग्रेस ने आधिकारिक बयान जारी कर कहा है कि शहजाद पूनावाला पिछली कमेटी में थे,इस बार जो कमेटी बनी उसमें वो नहीं हैं। यहां तक कि,वो इस बार कांग्रेस पार्टी के सदस्य तक नहीं बने। ऐसे में जो कांग्रेस का सदस्य तक नहीं उसको मीडिया गंभीरता से न ले।

कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए शुक्रवार से नामांकन पत्र दाखिल किए जाने हैं। बताया जा रहा है कि राहुल गांधी 4 दिसंबर को नामांकन पत्र दाखिल करेंगे,क्योंकि राहुल 1 और 2 दिसंबर को केरल में रहेंगे। माना जा रहा है कि राहुल गांधी को चुनाव का सामना नहीं करना पड़ेगा, उन्हें निर्विरोध चुन लिया जाएगा। अगर कोई और पद पर दावेदारी करना चाहेगा तो उसके लिए जरूरी होगा कि प्रदेश कांग्रेस कमिटी के 10 प्रतिनिधि उनका नाम प्रस्तावित करें।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper