राहुल गांधी का विवादित ट्वीट, कहा- ‘पुलवामा हमले से किसे हुआ फायदा’ – भड़की भाजपा

एक साल पहले आज ही के दिन एक धमके ने देश को हला कर रख दिया था। जी हाँ हम बात कर रहे है उस पुलवामा में हुए आतंकी हमले की, जिसमें एक साथ भारत माँ के 45 वीर सपूतों ने अपनी जान की कुर्बानी दी थी। एक तरफ आज पूरा देश हमले में शहीदों हुए जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित कर रहा है। तो वहीँ पुलवामा हमले की बरसी पर कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने विवादित ट्वीट कर नया हंगामा खड़ा कर दिया है। राहुल गांधी ने सवाल उठाया है कि इस हमले से सबसे ज्यादा किसे फायदा हुआ है।

राहुल ट्वीट में कहा, आज हम 40 सीआरपीएफ जवानों को याद कर रहे हैं जो पुलवामा हमले में शहीद हुए थे। इस हमले से सबसे ज्यादा किसे फायदा हुआ? इस हमले की जांच में क्या निकला? BJP सरकार में किसे अभी तक सुरक्षा चूक के लिए जवाबदेह ठहराया गया है। वहीं NCP नेता नवाब मलिक ने भी पुलवामा हमले पर विवादित बयान देते हुए कहा, 40 जवान शहीद हुए, चुनाव का मुद्दा बना और मोदी जी चुनाव जीत गए।

इससे पहले सीपीआई (एम) नेता मोहम्मद सलीम ने भी पुलवामा हमले को लेकर विवादित ट्वीट किया था। उन्होंने लिखा, “हमें जवानों के लिए स्मारक नहीं चाहिए। बल्कि हम ये जानना चाहते हैं कि अंतरराष्ट्रीय बॉर्डर से 80 किलो RDX कैसे भारत में आ गया, वो भी उस जगह जहां पर सेना की इतनी बड़ी तादाद है।” जानकारी के लिए आपको बता दें पुलवामा में 14 फरवरी 2019 को जैश-ए-मोहम्मद (जैश) के आत्मघाती हमलावर ने सीआरपीएफ के काफिले पर हमला किया था. इस आतंकी हमले में 40 जवान मारे गए थे।

कपिल मिश्रा ने साधा राहुल पर निशाना, कहा- शर्म करो
हालांकि, राहुल गांधी के इस ट्वीट पर भाजपा के कई नेताओं ने आपत्ति जताते हुए कांग्रेस पर जोरदार हमला भी किया है। भाजपा नेता कपिल मिश्रा ने राहुल गांधी के ट्वीट को रिट्वीट करते हुए कहा कि शर्म करो राहुल गांधी। पूछते हो पुलवामा हमले से किसका फायदा हुआ? अगर देश ने पूछ लिया कि इंदिरा राजीव की हत्या से किसका फायदा हुआ , फिर क्या बोलोगे? इतनी घटिया राजनीति मत करो शर्म करो।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper