राहुल गांधी को अमेठी यात्रा से मिली सबक

दिल्ली ब्यूरो: राजनेता समझते हैं कि वे ही सबसे ज्यादा काबिल हैं। उनसे ज्यादा जानकार कोई नहीं। उनके भाषण के सामने सबके भाषण फीके। उनके बोल बेहतर बोल। उनकी नीति सबसे बढ़िया, बाकी सब बेकार। लेकिन ऐसा नहीं है। जनता की नजर पारखी होती है। उनकी समझ नेताओं से भी आगे की होती है। उनके सवाल नेताओं को भेदते हैं और सीखने वालों को मन्त्र भी देते हैं। अमेठी दौरा से राहुल गाँधी को एक सच्चाई की जानकारी मिली। राहुल गांधी को इससे पहले भी भारत की सच्चाई की जानकारी कई बार मिलती रही है। सच्चाई तो पीएम मोदी और सीएम योगी के लिए भी है लेकिन सत्ता की वजह से वे इस सच्चाई को टरकाते रहते हैं। लेकिन राहुल को एक सच का पता चला। इसकी चर्चा राहुल आगे के भाषण में जरूर करेंगे।

राहुल गाँधी अपने संसदीय इलाके में घूमते घूमते एक स्कूल में जा पहुंचे उद्घाटन करने। बच्चों से मिले और मुदित भी हुए। खूब सवाल जबाब हुए। कई बच्चों ने अपने तरह से राहुल से सवाल किये। राहुल गाँधी ने जवाब भी दिया। लेकिन एक सवाल से राहुल गाँधी सोंच में पड़ गए। एक छात्रा ने राहुल से कहा सर मैं भी कुछ पूछना चाहती हूँ। राहुल गांधी बोले जरूर पूछिए। छात्रा ने पूछा कि ”सरकार ने बहुत से कानून बनाए हैं, लेकिन वह सभी गांवों में ठीक तरह से लागू क्यों नहीं हो पाते हैं?” पहले तो राहुल सकते में पड़ गए। कुछ देर मौन रहे फिर बोले- यह आप मोदीजी से पूछिए, मेरी सरकार थोड़ी ही है। जब हमारी सरकार होगी तब हमसे पूछना। इस के बाद फिर लड़कियों ने अमेठी की बेसिक जरुरतों के बारे में बात की। इसके जवाब में राहुल ने कहा कि ”अमेठी को तो योगी जी चलाते हैं। मैं तो अमेठी का सांसद हूं। मेरा काम लोकसभा में कानून बनाने का है। मगर योगी जी का काम यूपी को चलाने का है और योगीजी दूसरा काम कर रहे हैं। बिजली का काम नहीं कर रहे हैं, पानी का काम नहीं कर रहे हैं। शिक्षा का काम नहीं कर रहे हैं और क्रोध फैला रहे हैं।”

बता दें राहुल गाँधी अपने संसदीय क्षेत्र अमेठी के दौरे पर गए हैं। दो दिनों के लिए। सोमवार की पहली बड़ी खबर ये आई कि उन्हें एक सड़क का लोकार्पण नहीं करने दिया गया। स्थानीय प्रशासन ने कहा कि इस सड़क का लोकार्पण इस कारण नहीं हो सकता कि सड़क का काम अभी अधूरा है। फिर जब देर शाम राहुल गांधी एक स्कूल के उद्घाटन में पहुंचे तो दूसरी बड़ी खबर आ गई। स्कूल की लड़कियों राहुल से सीधा संवाद हुआ। राहुल जब वहां पहुंचे तो लड़कियों ने उनका स्वागत गुलाब के फूल से किया। लेकिन लड़कियों के सवाल से राहुल को देश की असली हालत की जानकारी मिली। कानून और योजनए देश में तो बहुत बनते हैं लेकिन उन योजनाओं और कानूनों का पालन कहाँ और कैसे होता है शायद ही कोई जाने।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper