राहुल गांधी को देश से माफी मांगना चाहिए: योगी

लखनऊ ब्यूरो। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राहुल गांधी पर हमला बोलते हुए कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष को देश से माफी मांगनी चाहिए। सीएम योगी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले से कांग्रेस की पोल पुन: खुल गई है। इसके लिए राहुल गांधी को देश से क्षमा मांगनी चाहिए।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गुरुवार को एनेक्सी के मीडिया सेंटर में पत्रकारों से बात करते हुए जज लोया की मौत के मामले में उच्च न्यायालय के फैसले ने कांग्रेस के झूठ को उजागर कर दिया है। राहुल गांधी को देश की जनता से माफी मांगनी चाहिए। कांग्रेस ने ऐसा माहौल बना दिया है जिससे देश के लोगों में नकारात्मकता उत्पन्न हो गई है। याचिका दुर्भावना से दायर की गई थी। भाजपा अध्यक्ष को बदनाम करने की कोशिश की गई थी। कोर्ट से इसे नेचुरल डेथ बताया है। हम कोर्ट के फैसले का स्वागत करते हैं।

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने आज सीबीआई स्पेशल कोर्ट के जज बीएच लोया की मौत पर एसआईटी जांच की मांग को खारिज कर दिया। उनकी मौत की दोबारा जांच को लेकर कई बार सुप्रीम कोर्ट में याचिकाएं दायर की गई थीं जिसपर 16 मार्च को सुनवाई पूर्ण होने के बाद आज कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया दिया है।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि इस तरह की याचिकाओं के लिए कोर्ट के पास वक्त नहीं है। जज लोया की मौत बिल्कुल सामान्य थी। कोटज़् ने आगे कहा कि कहा कि आपसी मतभेद के लिए कोर्ट का सहारा ना लिया। चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा, जस्टिस एएम खानविलकर और जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की बेंच ने इस मामले में अपना फैसला सुना दिया है। कोटज़् ने कहा कि बॉम्बे हाईकोर्ट के सभी जजों पर गलत तरीके के आरोप लगाए गए हैं। ऐसा कोई कारण नहीं है कि उनके साथ यात्रा कर रहे दूसरे जजों पर शक किया जाए। याचिका डालने पर कोर्टज़् ने कहा कि यह न्यायपालिका को बदनाम करने की साजिश है।

 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper