राहुल गांधी को लद्दाख के BJP सांसद ने दिया जवाब, बोले- ‘हां, चीन ने भारतीय क्षेत्र पर किया था कब्जा, लेकिन…’

नई दिल्ली: लद्दाख में चीनी सेना के घुसपैठ को लेकर रक्षामंत्री राजनाथ सिंह से सवाल करने पर राहुल गांधी को लद्दाख से ही भारतीय जनता पार्टी के सांसद जामयांग त्सेरिंग नामग्यल ने जवाब दिया है। नामग्‍याल ने ट्वीट में लिखा कि ‘हां, चीन ने ये इलाके कब्‍जाए हैं।’ इसके बाद उन्‍होंने उन जगहों की लिस्‍ट दी जो उनके मुताबिक, कांग्रेस के शासनकाल में गंवा दी गईं। इसमें अक्‍साई चिन से लेकर पैंगनक और चबजी घाटी, दूम चेले जैसे इलाकों का उदाहरण दिया है।

बीजेपी सांसद ने ट्वीट में दावा किया है कि चीन ने कांग्रेस के कार्यकाल में जरूर भारतीय जमीन पर कब्जा कर लिया था।

-1962 में कांग्रेस शासन के दौरान अक्साई चिन (37,244 वर्ग किमी)।

-यूपीए के समय में 2008 तक चुमुर क्षेत्र में टिया पंगांक और चौबजी घाटी (250 मीटर लंबाई)।

-पीएलए द्वारा डेमजोक में जोरावर किले को 2008 में नष्ट कर दिया गया था और 2012 में यूपीए शासन के दौरान पीएलए के आबसर्विंग प्वाइंट को सेटअप किया और 13 सीमेंट वाले घरों के साथ चीनी कॉलोनी भी बनाई।

-यूपीए शासन के दौरान 2008-2009 में डुंगती और डेमजोक के बीच भारत ने डूम चेले (प्राचीन व्यापार बिंदु) को खो दिया।

बता दें कि सोमवार को राहुल गांधी ने लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर गतिरोध का परोक्ष रूप से हवाला देते हुए ट्वीट किया था, ‘सब को मालूम है ‘सीमा’ की हक़ीक़त, लेकिन दिल के ख़ुश रखने को ‘शाह-यद’ ये ख़्याल अच्छा है। तब राजनाथ ने इसके जवाब में लिखा था- मिर्ज़ा ग़ालिब का ही शेर थोड़ा अलग अन्दाज़ में है। ‘हाथ’ में दर्द हो तो दवा कीजै, ‘हाथ’ ही जब दर्द हो तो क्या कीजै..

इसके बाद अगले दिन राहुल ने एक बार फिर ट्वीट कर राजनाथ पर पलटवार किया। उन्होंने कहा- एक बार जब रक्षा मंत्री की हाथ के चिह्न पर टिप्पणी पूरी हो जाए, तो क्या वह जवाब दे सकते हैं कि क्या लद्दाख में चीन ने भारतीय क्षेत्र पर कब्जा कर लिया है?

कोरोना ने देश में पहले जनप्रतिनिधि की ली जान, DMK विधायक का हुआ निधन- एक हफ्ता पहले पाए गए थे पॉजिटिव

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper