राहुल ने बिना शर्त राफेल मामले में मांगी माफी

नई दिल्ली: राफेल मामले पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सुप्रीम कोर्ट से बिना शर्त माफी मांगी है। कोर्ट में उनके खिलाफ दायर अवमानना मामले में राहुल गांधी ने हलफनामा दाखिल कर कहा कि गलती से पार्टी का राजनीतिक नारा कोर्ट के आदेश के साथ मिलाकर बोल दिया था।

इससे पहले के हलफनामे में राहुल ने गलती के लिए सिर्फ ‘खेद’ जताया था। इस मामले पर 10 मई को सुनवाई होनेवाली है। पिछले 6 मई को सुप्रीम कोर्ट ने राफेल मामले पर दायर रिव्यू पिटीशन (पुनर्विचार याचिका) पर सुनवाई टाल दिया था। सुनवाई के दौरान राफेल पर दायर रिव्यू पिटीशन के साथ राहुल गांधी के खिलाफ अवमानना याचिका के न लिस्ट होने पर चीफ जस्टिस ने हैरानी जताई थी।

चीफ जस्टिस ने कहा था कि हमने दोनों केस एक साथ लिस्ट करने का आदेश दिया था। तब आदेश में राहुल मामला 10 मई को कैसे डाल दिया गया, ये समझ नहीं आ रहा है। अब दोनों सुनवाई 10 मई को होगी।

पिछले 30 अप्रैल को राहुल गांधी के खिलाफ अवमानना मामले में राहुल गांधी के हलफनामे पर सुप्रीम कोर्ट ने नाराजगी जताई थी। कोर्ट के सख्त तेवर देख उनके वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने कदम पीछे खींच लिए थे और कोर्ट में माफी माफी मांगने की बात कही थी। अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि हम कोर्ट को संतुष्ट करने वाला हलफनामा दायर करेंगे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper