रिम्स निदेशक के बंगले में लालू प्रसाद यादव, डायरेक्टर खुद गेस्ट हाउस में

रांची: राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव इस समय रिम्स निदेशक के बंगले में रह रहे हैं। जबकि रिम्स के निदेशक डाक्टर कामेश्वर प्रसाद पिछले दो दिनों से गेस्ट हाउस में हैं। निदेशक के कार्यभार ग्रहण करने से अब लालू को दूसरी जगह शिफ्ट किया जा सकता है। इसका निर्णय 27 नवंबर को किया जाएगा। इसी दिन लालू की जमानत पर सुनवाई होने वाली है। निदेशक का कहना है कि समीक्षा करने के बाद निर्णय लिया जाएगा कि लालू प्रसाद कहां रहेंगे।

लालू प्रसाद को जब रिम्स निदेशक बंगले में रखा गया था, तब यह खाली था। लेकिन नियम यह है कि निदेशक को अपने बंगले में ही रहना है। लालू प्रसाद नौ गंभीर बीमारियों से जूझ रहे हैं। हाल के दिनों से उनकी तबीयत भी खराब चल रही है। बता दें कि कोरोना वायरस से बचाव के लिए लालू यादव को रिम्‍स के पेइंग वार्ड से केली बंगले में शिफ्ट किया गया था। तब से वे इसी बंगले में रह रहे हैं।

अब ज‍बकि रिम्‍स के नए निदेशक ने प्रभार ग्रहण कर लिया है तो उनके लिए बंगला खाली करना का निर्णय प्रबंधन ले रहा है। अभी रिम्‍स के नए निदेशक गेस्‍ट हाउस में ठहरे हैं। उन्‍होंने दो दिन पूर्व ही प्रभार ग्रहण किया है।

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव पर चारा घोटाला के 5 मामले चल रहे हैं। इसमें से चार मामलों में उन्‍हें सजा हो चुकी है और एक मामला अभी लंबित है। पांच मामलों में डोरंडा कोषागार का एक, देवघर कोषागार का एक, चाईबासा कोषागार के दो, और दुमका कोषागार का एक मामला है। डोरंडा कोषागार का मामला अभी लंबित है। उन्‍होंने दुमका मामले में हाईकोर्ट से जमानत मांगी है। इसी मामले में 27 नवंबर को हाईकोर्ट में सुनवाई होनी है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper