रूहेलखंड विश्वविद्यालय ने माइकोबायोलॉजी अंतिम वर्ष के विद्यार्थियों के साथ शोध काय्रों की समीक्षा एवं चर्चा की

बरेली: एम.जे.पी. रूहेलखण्ड विश्वविद्यालय के माइकोबायोलॉजी विभाग में कल अन्तिम वर्ष के विद्यार्थियों द्वारा प्रोजेक्ट कार्य, पोस्टर एवं पावर पाइन्ट का प्रस्तुतिकरण किया गया। कार्यक्रम का संचालन दीक्षा सिंह ने किया शुभारम्भ दीप प्रज्जवलन एवं सरस्वती वन्दना के साथ किया गया। डा. आलोक श्रीवास्तव ने माननीय कुलपति तथा सभी शिक्षक एवं अभिभावकों तथा अन्य गणमान्य अतिथियों का स्वागत किया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि कुलपति महोदय प्रो. के. पी. सिंह द्वारा माइकोबायोलॉजी में पी.एच.डी प्रारम्भ करने तथा अन्य विद्यालयों के छात्रों को अल्प अवधि की ट्रेनिंग देने के लिये भी इंगित किया एवं कोर्स को रोजगारपरक बनाने हेतु विभिन्न सुझाव दिये। कार्यक्रम के अतिथि डा. प्राची श्रीवास्तव बी.एल. एग्रो, प्रो. वी.पी. सिंह, डा. आलोक श्रीवास्तव द्वारा विद्यार्थियों के उज्जवल भविष्य हेतु शुभकामनायें दे कर प्रेरित किया गया। एम.एस.सी. चतुर्थ सेमेस्टर की छात्राओं वन्दना, कंचन, हर्षिका, अर्पणा एवं समन आदि द्वारा प्रोजेक्ट शोध कार्य प्रस्तुत किये। पब्लिक हेल्थ से सम्बन्धित जूस, कोका कोला तथा सीवेज नदी टेप पानी से ई-कोलाई जीवाणु का विलगन किया गया और ई-कोलाई अनेक औषधियों के लिये रेजिस्टेंट पायी गयीं। कोली फॉर्म काउन्ट से पाया गया कि पानी एवं जूस संकमित थे। मिट्टी एवं पानी से अन्य जीवाणु जैसे नॉन ट्यूबरक्युलोस बैक्टीरिया, रियोडोमोनास तथा दुग्ध उत्पादों से लैक्टोबेसीलस जीवाणु के ऊपर छात्र-छात्राओं ने शोध किया तथा उस शोध को संकलित कर थीसिस के रूप में प्रस्तुत किया। मिट्टी एवं पोल्ट्री लीटर एवं मिट्टी से कदक को विलग किया गया। इन छात्रों के शोध का निर्देशन डा. ऋषेन्द्र वर्मा (प्रोफेसर ऑफ इमिनेन्स). डा. संजय पटेल तथा आयुषी शर्मा ने किया। आयुषी शर्मा द्वारा धन्यवाद ज्ञापित किया गया।
बरेली से ए सी सक्सेना ।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper