रेलवे यांत्रिक कारखाना मे स्वतंत्रता दिवस समारोह का आयोजन

रेलवे यांत्रिक कारखाना मे स्वतंत्रता दिवस समारोह का आयोजन

गोरखपुर: स्वतंत्रता दिवस की 75वीं वर्षगांठ पर 15 अगस्त, 2022 को यांत्रिक कारखाना, गोरखपुर में आयोजित स्वतंत्रता दिवस समारोह में मुख्य अतिथि एवं मुख्य कारखाना प्रबन्धक/यांत्रिक कारखाना श्री योगेश मोहन ने ध्वजारोहरण किया। इस अवसर पर उन्होंने रेलवे सुरक्षा बल सलामी गारद का निरीक्षण किया तथा मार्च पास्ट की सलामी ली। समारोह में यांत्रिक कारखाना कला समीति के कलाकारों द्वारा देश प्रेम पर आधारित राष्ट्रगान, देश भक्ति गान तथा अन्य सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया।

इस अवसर पर श्री योगेश मोहन ने यांत्रिक कारखाना, गोरखपुर की उपलब्धियों एवं कारखाना कर्मचारियों को दी जा रही सुविधाओं पर विस्तृत प्रकाश डाला। उन्होंने आजादी के 75 वर्ष पूरे होने पर यांत्रिक कारखाना, गोरखपुर से सेवा निवृत्त हुए 90 वर्ष के 05 भूतपूर्व रेल कर्मियों को सम्मानित किया। समारोह के उपरान्त मुख्य कारखाना प्रबन्धक एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा कारखाना प्रांगण में पौधारोपण किया गया। कार्यक्रम का समापन एवं धन्यवाद ज्ञापन कारखाना कार्मिक अधिकारी श्री गोपाल प्रसाद गुप्ता द्वारा किया गया। इस अवसर पर यांत्रिक कारखाना एवं भंडार डिपो के अधिकारी, कर्मचारी तथा यूनियन के पदाधिकारी एवं अन्य रेल कर्मी उपस्थित थे।

स्वतंत्रता दिवस की 75वीं वर्षगांठ के अवसर पर 15 अगस्त, 2022 को सिगनल कारखाना, गोरखपुर छावनी में आयोजित स्वतंत्रता दिवस समारोह में मुख्य कारखाना प्रबन्धक श्री एम.पी.सिंह ने ध्वजारोहरण किया। इस अवसर पर उन्होंने रेलवे सुरक्षा बल सलामी गारद का निरीक्षण किया तथा मार्च पास्ट की सलामी ली। समारोह में सिगनल कारखाना के वरिष्ठ अधिकारी, रेलवे सुरक्षा बल जवान तथा अन्य कारखाना कर्मी उपस्थित थे।

मुख्य कारखाना प्रबन्धक श्री एम.पी.सिंह ने देश की आजादी के 75 वर्ष पूरे होने पर उपस्थित रेल कर्मियों को शुभकामनाएं देते हुए सिगनल कारखाना, गोरखपुर की उपलब्धियों पर प्रकाश डाला। उन्होेंने सिगनल कारखाना द्वारा उत्पादित किये जाने वाले मुख्य उत्पादों जैसे-इलेक्ट्रिक प्वाइंट मशीन, क्लैम्प प्वाइंट लॉक और आधुनिक इलेक्ट्रिक लिफ्ंिटग बैरियर के संबंध में बताते हुए कहा कि अब हम वार्षिक 4000 इलेक्ट्रिक प्वाइंट मशीनों के उत्पादन के लक्ष्य की ओर बढ़ रहे हैं। श्री सिंह ने कहा कि विभिन्न प्रकार के रिले के उत्पादन में बढ़ोत्तरी कर 40000 रिले बनाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है, जिससे कि भारतीय रेल पर अन्य क्षेत्रीय रेलों की मांगों को सिगनल कारखाना द्वारा पूरा किया जा सके।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper