रोज खाई सिर्फ एक चीज, 28 किलो की हो गई थी ये लड़की, आज दिखती हैं ऐसी

हर इंसान को अपने शरीर का विकास करने के लिए और स्वस्थ रहने के लिए खाना खाना बहुत जरुरी होता है। खाने के बिना तो जीना संभव ही नहीं है। लेकिन हम आपको आज इंग्लैंड की रहने वाली उस लड़की के बारे में बता रहे हैं जिसने वजन घटाने के लिए खाना खाना ही छोड़ दिया था और इसके कारण उसका वजन घटकर अब मात्र 28 किलो रह गया था।

उस लड़की की हालत इतनी ज्यादा खराब हो गई थी कि उसकी किसी भी समय मौ’त हो सकती थी। लेकिन फिर बाद में लड़की ने कुछ ऐसा कारनामा कर दिया जिससे कि उसका वजन फिर से बढ़ने लगा और अब वो बेहद खूबसूरत हो गई है।

हम बात कर रहे हैं डर्बीशायर की रहने वाली एनी विंडली नाम की लड़की के बारे में जो जब 15 साल की थी तभी उसे एनोरेक्सिया नाम की एक जानलेवा बीमारी हो गई थी। बीमारी के चलते व्यक्ति को खाने-पीने से डर लगने लगता है, इस बीमारी के डर से इंसान खाना-पीना सब कुछ छोड़ देता है और ऐसा भी इस लड़की ने भी किया था।

बीमारी के कारण एनी विंडली का वजन तेजी से घटने लग गया था और फिर एक समय ऐसा जब एनी विंडली का वजन महज 28 किलो रह गया था। 21 की उम्र तक आते-आते एनी विंडली की हालत बेहद खराब होने लगी थी।

फिर धीरे-धीरे एनी विंडली ने किसी तरह से चॉकलेट खाना शुरू किया, जो उसके लिए वरदान साबित हुआ। धीरे-धीरे चॉकलेट खाने से एनी विंडली का वजन बढ़ने लग गया था। धीरे-धीरे वो फिर से पहले जैसी ही फिट हो गई। चॉकलेट खाने की वजह से एनी विंडली का शरीर भरने लगा और चेहरे पर भी रौनक आ गई।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper