रोडवेज कर्मियों को सातवें वेतन का लाभ देने पर हर माह 12 करोड़ रुपये का व्यय भार

लखनऊ ब्यूरो। उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम (रोडवेज) के कर्मचारियों को सातवें वेतन का लाभ सितम्बर माह के वेतन के साथ मिलेगा। इसके लिए परिवहन निगम पर हर माह करीब 12 करोड़ का व्यय भार आएगा।

रोडवेज कर्मचारी संयुक्त परिषद के महामंत्री गिरीश मिश्र ने शुक्रवार को बताया कि सातवें वेतनमान के आधार पर नए वेतन का निर्धारण अगले सप्ताह तक हो जाएगा। इसी आधार पर कर्मचारियों व अधिकारियों व सेवानिवृत कर्मियों को सितम्बर माह के वेतन में सातवें वेतनमान को जोड़कर बढ़ा हुआ वेतन मिलेगा।

उन्होंने बताया कि सातवें वेतनमान पर मंजूरी मिलने के बाद परिवहन निगम पर हर माह 12 करोड़ तीन लाख रुपये का व्यय भार आएगा। हर वर्ष तकरीबन 155 करोड़ रुपये बढ़े हुए वेतन पर खर्च होंगे। नए वेतनमान का निर्धारण जल्द होगा। इसके साथ ही 15 फीसदी बढ़ोत्तरी के बाद एक माह बाद वेतन मिलना शुरू हो जाएगा।

उल्लेखनीय है कि रोडवेज कर्मियों को अप्रैल 2018 से सातवें वेतनमान का लाभ मिलेगा। वेतन समिति की संस्तुति पर शासन ने इस संबंध में एक सरकुलर जारी करते हुए परिवहन निगम को आदेश दे दिया है। आदेश का पालन करने के लिए परिवहन निगम के प्रबंध निदेशक ने 31 जुलाई को सभी रोडवेज अफसरों को निर्देशित करते हुए कहा था कि शासन के आदेश को तत्काल लागू करते हुए सातवें वेतनमान का लाभ कर्मियों और अधिकारियों को दिया जाए।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper