रोडवेज बस में तीन दोस्त फर्जी टिकट बेच करते थे मौज मस्ती , एसटीएफ ने पकड़ा

लखनऊ ब्यूरो । यूपी स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) की टीम ने सरकारी बसों में फर्जी टिकट वितरण करके बिना टिकट यात्राओं का संचालन करने वाले गिरोह के तीन सदस्यों को शुक्रवार को दबोचा है। इनमें से दो संविदा पर तैनात थे, जबकि एक अन्य अपने साथी को सुरक्षा के मद्दनेनजर बाउंसर के रूप में साथ रखते थे। पकड़े गए अभियुक्तों के कब्जे से फर्जी टिकटें बरामद हुई हैं।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अभिषेक सिंह ने बताया कि एसटीएफ की आगरा यूनिट ने कार्रवाई करते हुए सरकारी बसों में फर्जी टिकट वितरण कर यात्रा करने वाले गिरोह के तीन सदस्यों को पकड़ा है। इनमें संविदा परिचालक अलीगढ़ के इग्लास निवासी अशोक और सुरजीत है।

जबकि अमित बाउंसर के रुप में बस में बैठा रहता था। पकड़े गए अभियुक्तों ने स्वीकार किया कि अलीगढ़, मथुरा हाथरस और सादाबाद रुट पर चलने वाली सरकारी बस बुद्धविहार डिपो, हाथरस डिपो और मथुरा डिपों की सरकारी बसों में अपने फर्जी टिकटों का संचालन करते हैं। इससे सरकार को मिलने वाले रुपये उनकी जेब में चले जाते हैं। इसे आपस में बांट कर वह मौज मस्ती करते हैं।

एसएसपी ने बताया कि पकड़े गए अभियुक्तों के खिलाफ कार्रवाई कर जेल भेजा जा रहा है। इसके साथ ही इस गिरोह में संलिप्त अन्य लोगों की भी धरपकड़ के लिए अभियान चलाया जायेगा।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश राज्य परिवहन निगम के प्रबन्ध निदेशक ने बस में चलने वाले फर्जी टिकट माफियाओं पर अंकुश लगाने के लिए एसटीएफ के आईजी अमिताभ यश से शिकायत कर त्वरित कार्रवाई के लिए अनुरोध किया था।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper