रोते हुए कक्कड़ बोला मुझे फसाया जा रहा है, रातभर सोने नही दिया आयकर की टीम ने

इंदौर: प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के निजी सचिव प्रवीण कक्कड़ के सहित उनके करीबियों के 50 से अधिक ठिकानों पर आयकर की कार्यवाई जारी है । इंदौर में विजयनगर स्थित कक्कड़ के घर पर आयकर की कार्यवाई पिछले 30 घंटे से जारी है । इस दौरान टीम ने कक्कड़ को सोने भी नही दिया और रातभर पूछताछ करती रही इस दौरान कक्कड़ रोते हुए बोला कि उसे फसाया जा रहा है।

ऐसा कई बार हुआ जब कक्कड़ की आखों में आंसू थे लेकिन दिल्ली आयकर की टीम ने कक्कड़ की एक नहीं सुनी और अपनी कार्यवाई जारी रखी। रात को कक्कड़ के सीए भी हिसाब लेकर कक्कड़ की पैरवी करने पहुँचे थे और उन्हें दूध का धुला बता रहे थे लेकिन आयकर की टीम ने उनसे जरूरी कागजात लेकर उन्हें रवाना कर दिया और कक्कड़ से मिलने भी नही दिया। वहीं, पता चला है कि काली कमाई से इंदौर में एक सबसे बड़ा हाईटेक पब तैयार होने वाला था जिसका काम कक्कड़ के खासमखास के पास था।

आज दिल्ली आयकर की टीम कक्कड़ के बैंक लेकर खोलेगी जिसमे बड़ी मात्रा में कालाधन, जेवरात और प्रापर्टी की जानकारी मिलने की उम्मीद है। बैंक लाकर खुलने के बाद आज आयकर की टीम प्रवीण कक्कड़, अश्विनी शर्मा, प्रतीक जोशी को दिल्ली लेकर रवाना होने की उम्मीद है। हालांकि तीनो को दिल्ली आयकर ना ले जाये इसके लिए पीएचक्यू आदेश जारी कर चुका है लेकिन इस आदेश को मनाने के लिए दिल्ली आयकर बाध्य नही है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper