लकी ड्रा में कार निकलने का झांसा देकर जालसाज ने ठगे हजारों रुपए

लखनऊ: ऑनलाइन शापिंग कम्पनी नापतोल के एमडी व अन्य अफसर बनकर जालसाजों ने इन्दिरानगर के एक स्वामी को जाल में फंसाया। लकी ड्रा में लग्जरी कार निकलने के झांसा देकर जालसाज ने कई बार में 19900 रुपये ऐंठ लिए। जालसाजों ने कभी पेपर तो कभी एनओसी सर्टिफिकेट जारी करने के नाम पर रुपयों की मांग की। मांग लगातार बढ़ने पर पीड़ित को शक हुआ। रुपये वापस मांगने पर जालसाजों ने धमकी दी। पीड़ित की शिकायत पर गाजीपुर पुलिस ने तीन के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज कर ली है।

इन्दिरानगर के लेखराज खजाना निवासी स्वामी आनन्द ने बताया कि बीते 18 फरवरी को उनके पास एक कॉल आयी। फोन के पीछे मौजूद शख्स ने अपना परिचय ऑनलाइन शापिंग कम्पनी नापतोल से रजत कुमार शर्मा के रूप में दिया। उनसे कहा कि कम्पनी द्वारा निकाले गये लकी ड्रा की सूची में उनका नाम सेलेक्ट हुआ है। लकी विनर को कम्पनी की ओर से एक नई लग्जरी कार गिफ्ट की जाएगी।यह सुनकर आनन्द खुश हो गये। रजत कुमार ने झांसा दिया कि आपको 6 हजार रुपये खाते में जमा करने होंगे।

इस पर आनन्द ने कहा कि आप गाड़ी के कंसरनड पेपर भिजवाइये, रुपये दे दूंगा। रजत ने कहा कि वह कम्पनी से ही बोल रहा है, आप चाहें तो व्हाट्सएप पर देख सकते हैं। आनन्द जालसाज की चिकनी-चुपड़ी बातों में फंस गये और उसकी दिन दिये गये खाते नम्बर पर रकम भेज दी।कुछ देर बाद रजत ने दोबारा फोन किया और कम्पनी के एमडी देभु सिंह से बात करायी। बातचीत के दौरान देभु सिंह ने कहा कि 6500 रुपये और भेजने पर कार का इंश्योरेंस होगा। उसी दिन आनन्द ने दिये गये दूसरे खाते में छह हजार रुपये भेज दिया। करीब दो घण्टे बाद रजत कुमार, कृणाल कुमार सिंह व देभु सिंह ने कॉल की और इंश्योरेंस के नाम पर 12500 रुपये की मांग की। बातचीत के दौरान रजत ने झांसा दिया कि सर आप परेशान न होइए, मैं अपनी तरफ से 4500 रुपये लगा दूंगा।

लालच में फंसे आनन्द ने दो दिन बाद 7900 रुपये और भेज दिया। रजत ने कहा कि जब गाड़ी लेकर आउंगा तो तब आप रुपये दे दीजिएगा। आनन्द का कहना है कि कुछ वक्त बाद तीनों ने उससे कहा कि गाड़ी टाटा कम्पनी की है और एनओसी सर्टिफिकेट के लिए 12 हजार रुपये और देने होंगे। इस पर उन्होंने कहा कि जब गाड़ी और पेपर आएंगे तो रुपये दे दूंगा। आनन्द ने बताया कि शक होने पर उन्होंने 28 फरवरी को फोन पर बात होने पर भेजे गये 19900 रुपये वापस करने की मांग की। इस पर उन्हें गाली-गलौज व धमकी दी गयी।

पीड़ित का कहना है कि उसके पास 3 मार्च को भी फोन किया लेकिन उसने बात नहीं की। पीड़ित आनन्द ने मामले की शिकायत सीओ गाजीपुर से की। सीओ के आदेश पर गाजीपुर पुलिस ने रजत कुमार शर्मा, देभु सिंह व कृणाल कुमार सिंह धोखाधड़ी, अमानत में खयानत, गाली-गलौज व जान से मारने की धमकी की रिपोर्ट दर्ज कर ली है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper