लखनऊ के केजीएमयू में शिशु की हुई जटिल सर्जरी

लखनऊ: लखनऊ के किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (केजीएमयू) में जन्मजात डायाफ्रामिक हर्निया (सीडीएच) नामक दुर्लभ बीमारी से पीड़ित एक चार महीने के शिशु की सफलतापूर्वक जटिल सर्जरी की गई। रायबरेली का रहने वाला बच्चे का 10 नवंबर को ऑपरेशन किया गया और बुधवार को उसे छुट्टी दे दी गई। दरअसल उसको सांस लेने में तकलीफ हो रही थी, जिसके बाद उसको 9 नवंबर को केजीएमयू के बाल रोग विभाग में लाया गया था।

जांच से पता चला कि लड़के के बाएं हिस्से का डायफ्राम ठीक से विकसित नहीं हुआ था। इससे लड़के की छोटी आंत ने फेफड़े को संकुचित कर दिया, जिससे सांस लेना मुश्किल हो गया। बाल चिकित्सा विभाग के डॉ. जे.डी. रावत ने कहा, “डायाफ्राम के पुनर्निर्माण के लिए उनके सीने में एक माइक्रोस्कोप लगाया गया था।”

उन्होंने कहा कि, इस तरह की दुर्लभ जन्मजात विसंगतियां प्रत्येक 10,000-15,000 जीवित जन्मों में से एक में होती हैं और बड़ी चुनौती एनेस्थीसिया देना था क्योंकि फेफड़े पहले से ही खराब थे। उन्होंने कहा, “हमें यकीन नहीं था कि वह बेहोशी से बाहर आ पाएगा और सर्जरी के बाद स्थिर हो जाएगा। हालांकि, सर्जरी सफल रही और बच्चा स्थिर है और ठीक हो रहा है।”

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper